जागरण संवाददाता, लुधियाना : नगर निगम ने रेहड़ी फड़ी वालों से फीस लेकर उन्हें सड़क पर कब्जा करने का लाइसेंस दे दिया है। इसकी वजह से शहर में कई जगहों पर जाम की स्थिति बन रही है। ऐसा कुछ शहर के अस्पतालों के बाहर भी हो रहा है। रेहड़ी वालों ने अस्पतालों के बाहर सड़कों पर कब्जा कर किया है, जिसकी वजह से मरीजों की जान आफत में पडऩे लगी है। सड़क पर कब्जा होने की वजह से अस्पतालों के बाहर ट्रैफिक जाम लग जाता है और कई बार जाम में एंबुलेंस भी फंस जाती है।

शहर में सबसे ज्यादा भयानक स्थिति डीएमसी अस्पताल के बाहर बनी है। अस्पताल के मुख्य गेट के बाहर वाली सड़क पर रेहडिय़ों, फड़ियों और ऑटों वालों की लाइनों की वजह से ट्रैफिक जाम की स्थिति बनी रहती है। प्रत्यक्षदर्शियों के मुताबिक रोजाना यहा पर एंबुलेंस जाम में फंसती है और मरीजों की जान आफत में फंस जाती है। खास बात यह है कि डीएमसी अस्पताल में एंबुलेंस के जरिए आने वाले मरीजों की काफी संख्या है और एमरजेंसी का रास्ता भी इसी सड़क से होकर निकलता है। डीएमसी अस्पताल प्रबंधन नगर निगम कमिश्नर से लेकर पुलिस कमिश्नर तक को इस बावत कई बार लिखकर दे चुका है, लेकिन किसी तरफ से कार्रवाई नहीं हो रही है। अन्य अस्पतालों के बाहर भी यही हालात

शहर के एकमात्र सरकारी सिविल अस्पताल के रास्तों में भी यही हालत है। फील्ड गंज से लेकर सिविल अस्पताल के गेट तक रेहडिय़ों की वजह से ट्रैफिक जाम की स्थिति बनी रहती है। यही हालत सीएमसी अस्पताल व कपूर अस्पताल के बाहर के भी है। एसपीएस अस्पताल के बाहर नेशनल हाईवे के काम की वजह से ट्रैफिक जाम की स्थिति बनी रहती है। कई बार दे चुके हैं लिखकर : डॉ. संदीप शर्मा

डीएमसी अस्पताल के मेडिकल सुपरिंटेंडेंट डॉ. संदीप शर्मा का कहना है कि उनके अस्पताल की एमरजेंसी के गेट के बाहर वाली सड़क पर रेहड़ियों और फड़ियों की भरमार लगी है। यही नहीं ऑटो वाले भी सड़क के कॉर्नर पर अपने ऑटो खड़े देते हैं, जिसकी वजह से एंबुलेंस फंस जाती है। उन्होंने बताया कि वे इस संबंध में कई बार नगर निगम को लिखकर दे चुके हैं। कुछ दिन पहले भी निगम कमिश्नर को शिकायत दी है।

रेहड़ी वालों को साफ कहा गया है कि वे ऐसी जगह पर रेहड़ी फड़ी न लगाएं, जिससे ट्रैफिक को बाधा पहुंचती हो। अस्पतालों के बाहर अगर ऐसी स्थिति बनी हुई है तो वहा पर कार्रवाई की जाएगी।

चरणजीत सिंह, सुपरिंटेंडेंट हेडक्वार्टर तहबाजारी विंग।

Posted By: Jagran