लुधियाना, [ दिलबाग दानिश]। कोरोना वायरस के बीच एक नई समस्या खड़ी हो गई है। एक मरीज से दूसरे लोगों में फैलने वाली बीमारियों का खतरा बढ़ गया है। टीबी, एचआइवी और काला पीलिया जैसी बीमारियों के संक्रमित मरीज अब घरों में कैद हो गए हैं। वह आगे बीमारियां फैला सकते हैं।

कर्फ्यू के कारण मरीज सेंटरों में नहीं पहुंच पा रहे। इस कारण आने वाले दिनों में ऐसे मरीजों के बढ़ने की आशंका पैदा हो गई है। अगर ये मरीज सेंटरों पर दवा लेने के लिए नहीं आते हैं तो उन्हें भी ठीक नहीं किया जा सकेगा और उनकी जान खतरे में पड़ सकती है। अब ऐसे मरीजों को ढूंढकर दवा देनी भी बड़ी समस्या है। बढ़ी समस्या यह है कि कर्फ्यू के कारण बहुत से मरीज शहर से बाहर भी हैं और उन्हें भी दवा लेने में समस्या आ रही है।

विभाग रिकॉर्ड निकालकर भी देगा दवा

सेहत विभाग काला पीलिया, टीबी और एचआइवी के मरीजों का रिकॉर्ड खंगाल रहा है। इसमें से नंबर लेकर मरीजों से संपर्क भी किए जाएंगे। उन्हें इस संबंधी जागरूक किया जाएगा कि वह किसी भी सेंटर से दवा ले सकते हैं और दवा लेने के लिए बिना किसी रोक-टोक से अस्पताल पहुंच सकते हैं और नाकों पर अपना कार्ड दिखना होगा।

13 हजार मरीज लेते हैं टीबी की दवा

शहर में 13 हजार टीबी के मरीज हैं जो यहां बने टीबी सेंटरों पर दवा लेने आते हैं जिन्हें बीमारी के हिसाब से दवा दी जाती है। सिविल अस्पताल में बने सेंटर में आने वाले मरीजों की संख्या में 60 फीसद की कमी आई है। जो मरीज आ रहे हैं, उन्हें एक-एक दो-दो माह की दवा दी जा रही है। उन्हें यह भी जानकारी दी जा रही है कि वह अपने नजदीक के किसी भी सेंटर में जाकर दवा ले सकते हैं। यहां के डॉक्टरों ने माना कि मरीजों की आने की संख्या कम जरूर हुई है, मगर मरीज आ रहे हैं, कुछेक फोन पर जानकारी भी ले रहे हैं।

बाहरी राज्यों के मरीजों को दी जा रही एचआइवी की दवा

सिविल अस्पताल के आइसीटीसी सेंटर में भी मरीजों के आने की संख्या कम हो गई है। मगर यहां पर दूसरे राज्यों से मरीज आ रहे हैं। आज सिविल अस्पताल के आइसीटीसी सेंटर पर दिल्ली और अमृतसर के मरीजों को भी दवा दी गई है। यहां के डॉक्टर के अनुसार कोई भी कहीं भी रजिस्टर्ड मरीज कहीं से भी दवा ले सकता है। यहां आने वाले मरीजों को भी जरूरत के अनुसार एक या दो माह की दवा दी जा रही है और उन्हें सावधानियां बताई जा रही हैं। 

हरियाणा की ताजा खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें

पंजाब की ताजा खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें 

Posted By: Satpaul

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस

ਪੰਜਾਬੀ ਵਿਚ ਖ਼ਬਰਾਂ ਪੜ੍ਹਨ ਲਈ ਇੱਥੇ ਕਲਿੱਕ ਕਰੋ!