जगराओं, (लुधियाना) [बिंदु उप्पल]। पंजाब में धान की बिजाई 26 लाख हेक्टेयर में 10 जून से होनी है। अकेले लुधियाना जिले में 2.30 लाख हेक्टेयर में बिजाई होनी है। इसके साथ ही पांच लाख हेक्टेयर से अधिक क्षेत्र में बासमती की बिजाई होनी है। बिजाई को लेकर किसान व जमींदार पूरी तरह तैयार है। काेरोना महामारी के दौरान किसानों व जमींदारों को बहुत चिंता थी कि इस बार लेबर की किल्लत देखने को मिलेगी। हालांकि पिछले कुछ दिनों से कोरोना संक्रमित मरीजों की संख्या कम होने के कारण दूसरे राज्यों से पंजाब में लेबर का आवागमन शुरू हो गया है। इससे किसान व जमींदार खुश हो गए है। बुधवार को जगराओं बस अड्डे पर अन्य राज्यों से सैंकड़ों मजदूर ग्रुप बनाकर पहुंचे हैं।

गुरुसर काउंके के किसान सुरिंदर सिंह हर वर्ष 30 एकड़ में धान की खेती करते है लेकिन धान का रकबा कम कर दिया है। अब वो 15 एकड़ में धान की बिजाई 10 जून से शुरू करेंगे। आज ही दूसरे राज्यों से लेबर घर पहुंच गई है जोकि हर वर्ष उनके खेतों में धान की बिजाई करते है। किसान सुरिंदर सिंह ने बताया कि यही लेबर खेतों में धान की बिजाई करेगी। गुरचरण सिंह भी 15 एकड़ व हरजिंदर सिंह 17 एकड़ में धान की बिजाई करते है।

वीरवार को शुरू होने वाली धान की बिजाई के लिए दूसरे राज्यों से लेबर बसें भरकर आ रही। (जागरण)

धान की बिजाई में नहीं होगी लेबर की किल्लत

ज्वाइंट डायरेक्टर खेतीबाड़ी पंजाब डाॅ.बलदेव सिंह नार्थ ने कहा कि आज से सूबे में धान की बिजाई शुरू होगी और पंजाब के किसान तीन तरीके से धान की बिजाई करेंगे। इसके तहत एक लेबर की मदद, सीधी बिजाई व पैडी-ट्रांस्पलांटर से धान की बिजाई करेगी। उन्होंने बताया कि कद्दू तरीक से बिजाई के समय अधिक लेबर व पानी की जरूरत पड़ती है। इस बार चाहे कोरोना काल चल रहा है फिर भी धान की बिजाई के लिए अन्य राज्यों से लेबर सूबे में आ रही है और समय पर धान की बिजाई हो जाएगी।

---

कम समय लेने वाली धान की वेरायटी की करें बिजाई

--

ब्लाॅक जगराओं खेतीबाड़ी अफसर डाॅ. गुरदीप सिंह व खेतीबाड़ी विकास अफसर डाॅ. रमिंदर सिंह ने किसानों से अपील की है कि गिरते जलस्तर को देखते हुए कम पानी लेने वाली धान की किस्मों की बिजाई करें। इसमें पीआर 121, पीआर 122, पीआर 126, बासमती में पीबी 1121, पीबी 1509 की बिजाई करें और पूसा 44 पर कम से कम एरिया में खेती करें। डाॅ. रमिंदर सिंह ने किसानों से अपील की धान की बिजाई के 72 घंटे बाद कृषि माहिरों की सलाह अनुसार कीटनाशक दवाई का छिड़काव जरूर करें ।

 

Edited By: Vipin Kumar