जागरण संवाददाता, लुधियाना :

सिविल अस्पताल की एसएमओ डा. अमरजीत कौर ने वीरवार को एनजीओ के संचालक अनमोल क्वात्रा द्वारा उनके साथ किए गए दु‌र्व्यवहार की रिपोर्ट सेहत विभाग के उच्च अधिकारियों को भेज दी है। एसएमओ का आरोप है कि विधायक अशोक पराशर की मौजूदगी में सिविल अस्पताल में जगह अलाट करने पर अपनी सहमति न देने पर क्वात्रा ने उनके साथ गलत शब्दावली का प्रयोग किया और ऊंची आवाज में बात की। हालांकि, अनमोल क्वात्रा ने एसएमओ की ओर से लगाए सभी आरोपों को नकारा है।

एसएमओ ने बताया कि उन्होंने शुक्रवार को सेहत विभाग के उच्च अधिकारियों को बता दिया है कि क्वात्रा ने किस तरह से सरेआम उनके साथ अस्पताल में आकर दु‌र्व्यवहार किया। उच्च अधिकारी उसके खिलाफ अब क्या कार्रवाई करते हैं उन्हें उसका इंतजार है। वहीं, एसएमओ के समर्थन में कई अन्य एनजीओ आ गई हैं। लुधियाना ब्लड सेवा सहित दो अन्य एनजीओ का कहना है कि एनजीओ का काम लोगों की सेवा करना है, न कि इस तरह किसी अधिकारी के साथ दु‌र्व्यवहार करना।

पीसीएमएस एसोसिएशन ने साधी चुप्पी :

पीसीएमएस एसोसिएशन इस पूरे मामले में अब तक चुप है। एसोसिएशन के पदाधिकारियों का कहना है कि उनसे किसी भी प्रकार की सहायता नहीं मांगी गई है।

----

विधायक ने की पोस्ट शेयर, सुनवाई नहीं करते सिविल अस्पताल के अधिकारी :

सेंट्रल हलके के विधायक अशोक पराशर ने अपने फेसबुक पेज पर एक पोस्ट शेयर की है। इसमें लिखा है कि लोगों को चाहे जितनी परेशानी हो रही हो लेकिन सविल अस्पताल के अधिकारियों पर इसका कोई असर नहीं हो रहा है। बार-बार दौरा करने का एक ही मकसद है कि किसी भी तरीके से यहां के जिम्मेदार अधिकारियों को कुंभकर्णी नींद से जगाया जाए। यह लोग किसी की सुनवाई नहीं करते हैं। अपना सिस्टम बनाया हुआ है। मनमर्जी से काम करते हैं। जब तक लोग संतुष्ट नहीं होंगे वे घर नहीं बैठेंगे।

Edited By: Jagran