लुधियाना, जेएनएन। सूबे में शिक्षा के स्तर को ऊंचा उठाने के लिए सरकार जल्द ही स्मार्ट स्कूल नीति लाने जा रही है। इसके तहत सूबे के सभी स्कूलों को कम्यूनिटी के सहयोग के साथ विकसित किया जाएगा। यह बात पंजाब के शिक्षा मंत्री विजय इंद्र सिंगला ने कही। शिक्षा मंत्री ने कहा कि इस नीति के तहत स्कूलों की कायाकल्प किया जाएगा। नीति के अनुसार स्कूलों के इंफ्रास्ट्रक्चर को समाज सेवी, औद्योगिक घरानों व दानी सज्जनों की मदद से बेहतर बनाया जाएगा।

इसके बाद जिन-जिन स्कूलों का बिल्डिंग इंफ्रास्ट्रक्चर कम्यूनिटी स्पोर्ट से पूरा होगा, वहां सरकार द्वारा स्कूल की मुकम्मल कायाकल्प करने के लिए 50 फीसद वित्तीय सहायता दी जाएगी। सरकार इस वित्तीय सहायता से सूबे के सभी स्कूलों को सौर पैनल से लैस करेगी। इससे जहां स्कूलों की बिजली की जरूरत पूरी होगी, वहीं अतिरिक्त बिजली पावरकाम को वापस करके स्कूलों के लिए आय का साधन तैयार किया जाएगा। इसी तरह स्कूलों में सही समय अध्यापकों की हाजिरी को यकीनी बनाने के लिए बायोमीट्रिक प्राणाली व अन्य सुविधाएं उपलब्ध करवाई जाएंगी।

इसके अलावा एलईडी, प्रोजेक्टर व बैंच मुहैया करवाएं जाएंगे। इसके अलावा सरकार इस बात पर भी विचार कर रही है कि अगर कोई दानी सज्जन स्कूल या गांव को बेहतर बनाने का बीड़ा उठाता है, तो उस स्कूल या गांव का नाम उसके नाम रखा जाए। शिक्षा मंत्री ने कहा कि इसी नीति को अगले एक सप्ताह में लागू करने का प्रस्ताव है। जिससे कि पंजाब के बच्चों का बेहतर शिक्षा दे सके। अकेले सरकार अपने दम पर कुछ नहीं कर सकती।

काबिलियत के तहत बदली की पॉलिसी बनाई

शिक्षा मंत्री ने कहा कि उनके सुनने में आया कि कुछ राजनीतिज्ञ शिक्षक ट्रांसफर पॉलिसी पर सवाल उठा रहे हैं। ऐसे राजनीतिज्ञों को जवाब देना चाहूंगा कि इस टीचर ट्रांसफर पॉलिसी के तहत काबिलियत के तहत बदलियां की जा रही हैं। इन बदलियों के दौरान टीचर के अवार्ड, परीक्षाओं में उनकी कक्षाओं के रिजल्ट को देखा गया। टीचरों को उनकी काबिलियत के अनुसार स्टेशन दिया जा रहा है। सभी बदलियां मैरिट पर हुई। किसी की सिफारिश नहीं सुनी गई।

जो स्कूल किताबें व वर्दियां खरीदने को मजबूर करते हैं, करें शिकायत

शिक्षा मंत्री विजय इंद्र सिंगला ने कहा कि वह पहले ही कह चुके हैं कि कोई भी प्राइवेट स्कूल पेरेंटस को किसी एक दुकान से वर्दियां व किताबें खरीदने के लिए मजबूर नहीं कर सकता। अगर कोई स्कूल किसी एक दुकान से वर्दियां व किताबें खरीदने के लिए मजबूर कर रहा है, तो पेरेंटस उसकी शिकायत करें। ऐसे स्कूलों पर कड़ी कार्रवाई की जाएगी।

जल व पर्यावरण संरक्षण पर बेहतर लेख लिखने पर मिलेगा अवार्ड

शिक्षा मंत्री ने कहा कि पंजाब सरकार पर्यावरण और जल संरक्षण के प्रति जागरूकता लाने के लिए लेख व भाषण मुकाबले करवा रही है। इसके तहत सरकार नई पहल करने जा रही है। इस पहल के तहत जिला स्तर पर जो भी विद्यार्थी जल संरक्षण व पर्यावरण संरक्षण पर सबसे बेहतर लेख लिखकर सुझाव देंगे, उन्हें मुख्यमंत्री से अवार्ड दिया जाएगा।

हरियाणा की ताजा खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें

पंजाब की ताजा खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें 

Posted By: Sat Paul