जागरण संवाददाता, पटियाला। शहर में स्थित ऐतिहासिक श्री काली देवी मंदिर में सोमवार की दोपहर उस समय अचानक तनावपूर्ण स्थिति बन गई जब एक युवक मां की प्रतिमा से जाकर लिपट गया। युवक की ओर से इस तरह बेअदबी करने पर वहां बैठे पुजारी शूरवीर ने युवक को धक्का मारकर गिरा दिया। इसके बाद मंदिर के सुरक्षा कर्मियों ने उसे पकड़ लिया और उसे सिक्योरिटी रूम में ले गए। बाद में मौके पर पहुंची पुलिस ने उसे गिरफ्तार कर उसके खिलाफ केस दर्ज कर लिया।

युवक की पहचान पटियाला के नैन कला निवासी 23 वर्षीय प्रदीप के रूप में हुई है। पुलिस ने देर रात उसके खिलाफ केस दर्ज कर लिया। डीएसपी सिटी वन अशोक कुमार ने इसकी पुष्टि करते हुए कहा कि आखिर युवक ने ऐसी हरकत क्यों की, इसका कारण जानने में पुलिस जुटी हुई है। आरोपित ने पहले माथा टेकने के लिए मंदिर आई एक महिला श्रद्धालु को भी जबरन पकड़ लिया था। महिला ने इसे धक्का मारकर अलग किया।

मंदिर के मैनेजर सतपाल भारद्वाज ने बताया कि घटना दोपहर के करीब दो बजकर दस मिनट पर हुई जब एक युवक मंदिर में माथा टेकने आया था। वह मंदिर के भवन में तालियां बजा रहा था। देखते ही देखते वह वहां रखी गोलक पर पांव रखता हुआ मां के सिंहासन पर चढ़ गया और माता जी की मूर्ति से जा लिपटा। घटना का जानकारी मिलते ही हिंदू संगठन भड़क गए। मंदिर प्रबंधक कमेटी के प्रधान गग्गी पंडित, हिंदू सुरक्षा समिति के पदाधिकारी राजेश केहर व साथियों ने मंदिर के बाहर जाम लगा दिया। गग्गी पंडित ने कहा कि 24 घंटे के भीतर मामला हल न हुआ और सच्चाई सामने न आई तो वह मंदिर के बाहर आत्मदाह करेंगे।

उधर, हिंदू संगठनों ने डीसी के इस्तीफे की मांग करते हुए 25 जनवरी को पटियाला बंद का आह्वान किया है। देर शाम को मंदिर में आए एसपी (सिटी) हरपाल सिंह ने मंदिर में हुई घटना का जायजा लिया और सीसीटीवी कैमरे में कैद फुटेज को देखने के बाद भड़के हिंदू संगठनों को आश्वासन दिया कि इस मामले पर उचित कार्रवाई की जाएगी।

सुखबीर बादल ने की घटना की निंदा

शिअद प्रधान सुखबीर बादल ने घटना की निंदा करते हुए कहा कि पंजाब से बाहर की ताकतें राज्य के हिंदू व सिख धार्मिक स्थानों में सांप्रदायिक नफरत का माहौल पैदा करने की साजिश कर रही हैं।

शांति बनाए रखें लोग: चन्नी

मुख्यमंत्री चरणजीत सिंह चन्नी ने घटना की निंदा करते हुए कहा कि चुनाव के चलते कुछ लोग शांति भंग करना चाहते हैं। आरोपित गिरफ्तार कर लिया गया है। पंजाब के लोग शांति बनाए रखें।

उत्तर भारत का प्राचीन मंदिर है

इस मंदिर को पूर्व मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह के पूर्वजों की ओर से बनवाया गया था। यहां उनकी कुलदेवी माता राजराजेश्वरी विराजमान हैं। यहां स्थित माता श्री काली देवी की मूर्ति भी पटियाला रियासत के महाराजा ने रखवाई थी। यहां पर प्रज्वलित ज्योति कोलकाता स्थित सिद्ध शक्तिपीठ श्री काली माता मंदिर से लाई गई है।

Edited By: Vipin Kumar