लुधियाना [डीएल डॉन]। महानगर में सब्जियों के दाम आसमान छूने से किचन का बजट गड़बड़ा गया है। आम लोगों के लिए सब्जी खरीदना पहुंच से बाहर हो गया है। रोजाना उपयोग होने वाली सब्जी जैसे कि आलू 40 से 50 रुपये प्रति किलो में बिक रहा है। मटर के दाम 150 रुपये प्रति किलो, शिमला मिर्च 100 रुपये प्रति किलो, फूलगोभी 70 रुपये प्रति किलो, बैगन 50 रुपये प्रति किलो, तोरी 40 रुपये प्रति किलो, घिया/कद्दू 40 रुपये प्रति किलो, मूली 50 रुपये प्रति किलो तक में बिक रही है। टमाटर भी खुदरा में 70 रुपये प्रति किलो के भाव से बिक रहा है। लगभग सभी सब्जियों के दाम अचानक बढ़ जाने से लोग सकते में हैं। चावल, दाल, आटा, घी, तेल आदि के दाम पहले से ही आसमान छू रहे हैं। ऐसे में सब्जियों में महंगाई का तड़का लगने से लोगों के लिए घर चलाना मुश्किल हो गया है।

सब्जियों के रेट से आढ़ती परेशान 

बहादुर के रोड स्थित फल और सब्जी मंडी में सब्जियों का रेट अचानक बढ़ने के बारे में महिलाओं से बात करने पर उन्होंने कहा कि हरी सब्जियों की आमद कम होने से रेट बढ़े हैं। आलू और प्याज का स्टॉर घटने के कारण रेट दोगुने हो गए हैं। आढ़ती एसोसिएशन के वरिष्ठ उपप्रधान सचिन अरोड़ा उर्फ रिशु ने कहा कि हरी सब्जियों का रेट अचानक बढ़ने से छोटे व्यापारी खरीदारी के समय ज्यादा मोलभाव करने लगे हैं। रोजाना सुबह सब्जियों के दामों को लेकर जबरदस्त सौदेबाजी होती है। उन्होंने कहा कि जब तक मंडी में सब्जियों की आमद नहीं बढ़ती, तब तक दाम स्थिर होना मुश्किल लग रहा है।

सब्जियों की खुदरा बिक्री रह गई आधी  

खुदरा सब्जी विक्रेता दिनेश कुमार ने बताया कि सब्जियों के दाम अचानक बढ़ जाने से बिक्री में काफी फर्क पड़ गया है। सब्जियों की बिक्री लगभग आधी हो रह गई है। जो ग्राहक पहले 1 किलो सब्जी खरीदता था, वह रेट पूछने के बाद आधा किलो ही लेकर जा रहा है। आलू का रेट अचानक बढ़ने के कारण लोग आलू कम खरीदने लगे हैं। उसकी जगह सस्ती हरी सब्जियां खरीद रहे हैं।      

पंजाब की ताजा खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें 

हरियाणा की ताजा खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें

 

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस

ਪੰਜਾਬੀ ਵਿਚ ਖ਼ਬਰਾਂ ਪੜ੍ਹਨ ਲਈ ਇੱਥੇ ਕਲਿੱਕ ਕਰੋ!