जागरण संवाददाता, लुधियाना : माता रानी चौक स्थित कार्यालय में पंजाब प्रदेश व्यापार मंडल की बैठक हुई। इस दौरान पंजाब महासचिव सुनील मेहरा, पंजाब सचिव महिंदर अग्रवाल, जिला प्रधान अरविंदर मक्कड़, हरकेश मित्तल ने बताया कि पंजाब में व्यापार व उद्योग मंदी के हालात में गुजर रहा है। सरकार व सरकारी अफसरशाही व्यापार विरोधी नीतियों के कारण व्यापार को कुचला जा रहा है। पंजाब के वित्तमंत्री मनप्रीत बादल ने 18 महीनों में कई बार व्यापार मंडल के सदस्यों से बैठक कर कई तरह की व्यापारी हितों की घोषणाएं की लेकिन किसी को भी लागू नहीं किया गया।

वहीं सरकार पिछली सरकार की गलत नीतियों का बहाना लगाकर कोई विकास नहीं कर रही। उन्होंने कहा कि पंजाब में 22 हजार उधोग पंजाब से पलायन कर गए हैं। 65 हजार व्यापारियों ने सेल्स टैक्स नंबर सरेंडर कर दिए थे। कैप्टन सरकार को यह बात सोच कर रखनी चाहिए कि कैप्टन सरकार ने आते ही वायदा किया था कि 100 दिनों के अंदर बिजली के रेट को 5 रुपये यूनिट कर देंगे। व्यापारी और ट्रेंड इंडस्ट्री बोर्ड बनाए जाएंगे। पंजाब में वैट के 2011 से 2017 तक के केस वापस लिए जाएंगे। नाके और छापे बंद किए जाएंगे लेकिन यह सब मुंगेरी लाल के हसीन सपने साबित हो रहा है। उन्होंने कहा कि अगर सरकार ने व्यापारियों के लिए नहीं सोचा, तो आने वाले चुनावों में इसका नुकसान सरकार को सहना पड़ेगा।

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस

ਪੰਜਾਬੀ ਵਿਚ ਖ਼ਬਰਾਂ ਪੜ੍ਹਨ ਲਈ ਇੱਥੇ ਕਲਿੱਕ ਕਰੋ!