जागरण संवाददाता, लुधियाना। Farmers Protest: अदाणी लॉजिस्टिक्स पार्क बंद होने से किसानों के बच्चे बेरोजगार हो गए हैं, लेकिन उन्होंने अपना रुख नरम नहीं किया है। संयुक्त किसान मोर्चा के बैनर तले 1 जनवरी, 2021 से किला रायपुर स्थित अदाणी लाजिस्टिक्स पार्क के मुख्य गेट के बाहर धरने पर बैठे किसानों का कहना है कि यदि इसे किराये पर भी दिया गया या इसका नाम बदल कर चलाने की भी कोशिश की गई तो भी हम यहां काम शुरू नहीं होने देंगे। किसानों के धरने के कारण सात माह से यहां काम पूरी तरह ठप है।

मुख्य गेट के आगे आने-जाने का रास्ता बंद

किसानों ने मुख्य गेट के आगे ट्रैक्टर खड़े कर रखे हैं। आने-जाने का रास्ता बंद कर रखा है। किसानों ने साफ किया कि जब तक केंद्र सरकार तीनों कृषि सुधार कानून वापस नहीं लेती, तब तक यह धरना जारी रहेगा। यहां किसानों का धरना दिन-रात चलता है। किसानों ने कूलर, चाय, दूध समेत हर तरह का इंतजाम किया है। आसपास के किसान बारी-बारी से आकर धरने में शामिल होते हैं, ताकि सरकार पर दबाव बनाया जा सके।

यह भी पढ़ें-पंजाब में अदाणी लाजिस्टिक्स पार्क बंद होने पर सियासी दल खामोश, वोट बैंक की खातिर रोजगार का मुद्दा भूले

धरने में किसानों के अलावा महिलाएं भी शामिल

जम्हूरी किसान सभा पंजाब के जिला कार्यकारिणी सदस्य हरनेक सिंह गुज्जरवाल का कहना है कि धरने में किसानों के अलावा महिलाएं भी शामिल हैं। हरनेक ने यह भी कहा कि यहां जिन कर्मियों की नौकरी गई है, वह उनके लिए भी लड़ाई लड़ने के लिए तैयार हैं, लेकिन अभी तक कोई कर्मी उनके पास नहीं आया है। किसानों ने शुरू से ही स्टाफ व सिक्योरिटी वालों को आने-जाने से नहीं रोका, लेकिन माल की मूवमेंट ठप की गई है।

यह भी पढ़ें-पंजाब में Adani Group के विरोध के चक्कर में सैकड़ों युवा हुए बेरोजगार, इनमें ज्यादातर किसानों के बच्चे

यह भी पढ़ें-अदाणी लाजिस्टिक पार्क बंद होने से पंजाब के उद्योगों को लगा बड़ा झटका, बढ़ेगा ट्रांसपोर्टेशन का खर्च

 

 

Edited By: Vipin Kumar