संस, समराला : कृषि सुधार कानून रद करवाने के लिए सोमवार को संयुक्त किसान मोर्चा की तरफ से भारत बंद का एलान किया गया था। इसे लेकर समराला के लुधियाना-चंडीगढ़ रोड पर घुलाल टोल प्लाजा, लुधियाना चंडीगढ़ रोड दयालपुरा गांव के पास, नीलों पुल, खन्ना नवांशहर रोड, चावा रोड, ललतों कलां रेलवे स्टेशन एवं किसानों ने सड़क जाम कर अपना प्रदर्शन किया। समराला हो रहे प्रदर्शन में पंजाबी कलाकार मलकीत सिंह रौनी ने आकर किसानों को हौंसला अफजाई की। उनका कहना था की किसानों को संघर्ष करते हुए एक साल हो जाने को थोड़ा ही समय रह गया है, लेकिन केंद्र सरकार ने अड़ियल रवैया अपना रखा है। किसान अन्नदाता हैं। उसके साथ ऐसा रवैया सहीं नहीं है।

भारतीय किसान यूनियन लक्खोवाल के प्रदेश महासचिव परमिदर सिंह पालमाजरा का कहना था कि 27 सितंबर को पूरा भारत बंद है। बंद पूरी तरह से सफल रहा है। दुकानदारों से लेकर आम जनता तक सबने पूरा साथ दिया। किसानों की लड़ाई केंद्र सरकार के खिलाफ है और तब तक चलती रहेगी, जब तक वह तीन कानून रद नहीं होते। भले ही किसानों को जितना मर्जी लंबा समय संघर्ष करना पड़े।

किसान सुखजिदर सिंह दयालपुरा का कहना था कि तीन कानून तो केंद्र सरकार ने बना दिए, लेकिन अब किसानों ने केंद्र सरकार की रातों की नींद उड़ाई पड़ी है। पहले बंगाल में किसानों ने अपनी ताकत दिखा केंद्र सरकार को वहां हराकर किसानों की शक्ति दिखाई। अब अगर केंद्र सरकार मांगे नहीं मानेगी, तो आने वाले 2022 के विधानसभा चुनावों में इनको बंगाल से भी बड़ी हार दिलवाएंगे।

Edited By: Jagran