जासं, जगराओं। पंजाब में ऐसी कई महिलाएं और नवविवाहिताएं हैं, जिन्हें एनआरआइ दूल्हों की ओर से धोखा देकर शादी रचाई गई है। पर उन्हें अभी तक इंसाफ नहीं मिल रहा है। ऐसी महिलाओं की मदद के लिए अब संस्था और सभा एक साथ आकर साथ देगी। धोखेबाज विदेशी व देशी दूल्हों के अत्याचारों से पीड़ित लड़कियों के लिए इंसाफ की लड़ाई लड़ने वाली संस्था 'अब नहीं' की ओर से सेंट्रल वाल्मीकि सभा इंडिया के सब-आफिस जगराओं में गेजा राम वाल्मीकि की अगुवाई में प्रेस कांफ्रेंस की गई।

संस्था और सभा ने साझे तौर पर पंजाब में विदेशी और स्थानीय धोखेबाज दूल्हों के अत्याचारों के खिलाफ आवाज उठाने का प्रण लिया गया। गेजा राम ने कहा कि एनआरआइ दूल्हों से पीड़ित महिलाओं को इंसाफ दिलाने के पूरे यत्न किए जाएंगे। इस मौके पर काग्रेसी नेता गेजा राम से 15 विदेशी व तीन स्थानीय पीड़ित लड़कियों ने भरे मन से अपना दुख बताया। संस्था की पंजाब प्रधान सतविंदर कौर सत्ती ने सरकारी दफ्तरों में होती परेशानियों से जागरूक करवाया।

संस्था के महासचिव ने महिलाओं से हो रहे अन्याय के खिलाफ अन्य संस्थाओ को आगे आने के लिए सहयोग मागा। गेजा राम ने कहा कि पंजाब की इन दुखी बेटियों की मदद करना ही मानवता की सच्ची सेवा है। इस मौके कपिल बासल, अमित कल्याण, बावा मोगला, अरुण गिल, संजू, हरप्रीत कौर, हरविंदर कौर, कमलदीप कौर भी मौजूद थीं। संस्था की प्रधान सतविंदर सत्ती ने बताया कि 'अब नहीं' संस्था एनआरआइ धोखेबाज दूल्हों के खिलाफ पत्नियों की एकजुट हुई संस्था है। यह 50 पासपोर्ट इंपाउंड करवा चुकी है।