जागरण संवाददाता, लुधियाना। NTSE Exam द स्टेट कौंसिल आफ एजूकेशनल रिसर्च और ट्रेनिंग (एससीईआरटी) की ओर से नेश्नल टैलेंट सर्च एगजामिनेशन(एनटीएसई) परीक्षा का आयोजन अगले साल 16 जनवरी को होने जा रहा है। परीक्षा के लिए रजिस्ट्रेशन प्रक्रिया बंद हो चुकी है और विद्यार्थियों को रजिस्ट्रेशन कराने के लिए 15 दिन का समय मिला था। सरकारी स्कूलों के साथ-साथ केंद्रीय और नवोदय विद्यालयों के जो भी विद्यार्थी दसवीं कक्षा में पढ़ रहे हैं, वह परीक्षा के लिए अपीयर हो सकते हैं, इसके लिए जरूरी नहीं कि विद्यार्थी का किसी एक बोर्ड से ही संबंधित होना जरूरी है, किसी भी बोर्ड का दसवीं कक्षा में पढ़ने वाले विद्यार्थी परीक्षा दे सकता है, बशर्ते उसने परीक्षा के लिए रजिस्ट्रेशन कराया हो। इस साल कितने विद्यार्थियों ने एनटीएसई स्टेज वन परीक्षा के लिए जिले से रजिस्ट्रेशन कराया है, उसका सभी आंकड़ा ई-पंजाब पोर्टल पर उपलब्ध है। शिक्षा विभाग की मानें तो पिछले साल जिले से तीन हजार विद्यार्थी परीक्षा के लिए अपीयर हुए थे।

नहीं होती नेगेटिव मार्किंग

एनटीएसई स्टेड वन परीक्षा दो घंटे की होती है। इसमें मेंटल एबिलिटी के सौ प्रश्न तथा गणित, साइंस और सामाजिक शिक्षा तीनों के सौ प्रश्नों सहित कुछ दौ सौ अंकों की यह परीक्षा होती है। पिछले साल इस परीक्षा के लिए शहर में सेंटर बनाया गया था। इस परीक्षा के लिए किसी तरह की नेगेटिव मार्किग नहीं होती। राज्य भर से टाप 187 बच्चों का चयन किया जाता है जोकि एनटीएसई स्टेज टू परीक्षा के लिए अपीयर होते हैं। परीक्षा पास करने वाले विद्यारि्थयों को गयारहवीं और बारहवीं में 1250 रुपये की मंथली तथा ग्रेजुएशन तथा पोस्ट ग्रेजुएशन तक दो हजार रुपये की स्कालरशिप मिलती है।

कक्षा नौंवीं में इतने प्रतिशत अंक होना है जरूरी

एनटीएसई स्टेज वन परीक्षा को जिन विद्यारि्थयों ने देना होता है, उनके लिए कैटेगरी अनुसार कक्षा नौंवी में इतने अंकों को लेना जरूरी होता है। जनरल कैटेगरी के लिए 75 प्रतिशत, एससी और बीसी कैटेगरी के लिए 55 प्रतिशत अंक लेना अनिवार्य होता है। परीक्षा के लिएकिसी तरह का कोई खास सिलेबस नहीं होता बलि्क कक्षा नौंवी और दसवीं के एनसीआरटी बुकस में से प्रश्न पूछे जाते हैं।

विद्यार्थियों को तैयार कर रहा शिक्षा विभाग

एनटीएसई परीक्षा की तैयारी के नोडल अफसर संजीव तनेजा ने कहा कि शिक्षा विभाग का पूरा फोकस विद्यारि्थयों को एनटीएसई परीक्षा के लिए तैयार करना है। सरकारी स्कूलों की बात करें तो विभाग परीक्षा के लिए उन्हें तैयारी भी करवा रहा है। रोजाना शाम तीन सौ विद्यार्थी परीक्षा के लिए तैयारी कर रहे हैं।

Edited By: Vinay Kumar