आशा मेहता, लुधियाना : पंजाब कृषि विश्वविद्यालय की ओर गेट नंबर 1 की तरह ही अब गेट नंबर दो को भी बनाया जाएगा। यहा भी भव्य दोमोरी गेट ही बनाया जाएगा। डिजाइन एक नंबर गेट की तरह ही होगा। यूनिवर्सिटी अधिकारियों के मुताबिक दो नंबर एंट्री प्वाइंट पर बनाया जा रहा गेट हरित क्त्राति को समर्पित होगा। इस गेट पर हरित क्राति का उल्लेख भी होगा। दो नंबर एंट्री प्वाइंट पर गेट के निर्माण को लेकर कार्य शुरू हो गया है। अभी जिस जगह पर एंट्री गेट लगा है, उससे पंद्रह फुट अंदर की तरफ नया गेट बनेगा। पंजाब कृषि विश्वविद्यालय से प्राप्त जानकारी के अनुसार दो नंबर के नए गेट को करीब 20 से 25 लाख रुपये में बनाया जाना है। यह राशि दानी सज्जनों की ओर से यूनिवर्सिटी को उपलब्ध करवाई जाएगी। गेट का निर्माण कार्य एक साल के भीतर पूरा होना है। एलुमनी की फीड बैक पर बनाया जा रहा गेट

पीएयू के एस्टेट ऑफिसर डॉ. वीएस हास के अनुसार दो नंबर पर नए गेट को एलुमनी के फीड बैक पर बनाया जा रहा है। कुछ महीने पहले पीएयू के एलुमनी मीट में पहुंचे एलुमनी ने सुझाव दिया था कि एक नंबर गेट की तरह दो नंबर गेट को भी बनाया जाए। उसी फीड बैक से यह निर्णय लिया गया। यह गेट डोनर की मदद से बनेगा। पीएयू की गोल्डन जुबली को समर्पित था गेट नंबर एक

डॉ. हास ने बताया कि एक नंबर गेट पीएयू के गोल्डन जुबली को समर्पित था। जबकि दो नंबर गेट हरित क्त्राति को समर्पित होगा। इस गेट पर हरित क्त्राति की कहानी को बया किया जाएगा। इसके साथ ही गेट निर्माण में जो दानी सज्जन सहयोग दे रहे हैं, उनका नाम भी उल्लेख होगा। पंजाबी व अंग्रेजी में लिखा जाएगा यूनिवर्सिटी का नाम

पीएयू अधिकारियों के मुताबिक एक नंबर गेट की तरह ही दो नंबर गेट पर पंजाबी व अंग्रेजी पर यूनिवर्सिटी का नाम लिखा जाएगा। इस बार किसी तरह का विवाद न हो, इसका ध्यान रखा जा रहा है।

Posted By: Jagran