लुधियाना, जेएनएन। सूबे की बिगड़ती आबो हवा को बचाने के लिए राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ हरियावल पंजाब मुहिम चला रहा है। इस मुहिम के तहत जहां पर्यावरण को बचाने का काम किया जा रहा है वहीं पर्यावरण रक्षक भी पैदा किए जाएंगे। जो कि बाद में लोगों को प्रकृति संरक्षण के लिए प्रेरित करेंगे। हरियावल पंजाब मुहिम के तहत राज्य स्तरीय समागम में पर्यावरण रक्षकों व कुछ गणमान्य लोगों को 13 दिसंबर को सम्मानित किया जाना है। इस सम्मान समारोह में पर्यावरण रक्षकों व गणमान्यों को सम्मानित किया जाना है उसमें दिए जाने वाले सम्मान चिह्नों पर जो लोगो लगेगा वह लुधियाना की बेटी द्वारा बनाई गई पेंटिंग होगी। इसकी घोषणा हरियावल मुहिम के प्रदेश प्रमुख रामगोपाल ने पेंटिंग देखने के बाद की।

हरियावल मुहिम के तहत अलग-अलग स्कूलों के विद्यार्थियों से पेंटिंग बनवाई गई। बीसीएम स्कूल जमालपुर की ग्यारहवीं कक्षा की छात्रा माइशा ने एक पेंटिंग बनाई है। जिसमें उसने एक पेड़ की कट टहनी बनाई है जो कि जमीन पर गिर रही है और उसे किसी इंसान के हाथानों ने पकड़ लिया ताकि वह जमीन पर न गिरे। इस पेंटिंग को देखकर रामगोपाल ने कहा कि पर्यावरण तभी बचेगा जब लोगों में ऐसा भाव होगा कि पेड़ की कोई भी टहनी काटकर इस तरह जमीन पर न गिराई जाए। यही नहीं इस पेंटिंग से लोगों यह भी संदेश दिया जा रहा है कि पेड़ों की संभाल हमारी जिम्मेदारी है।

उन्होंने कहा कि 13 दिसंबर के राज्य स्तरीय कार्यक्रम में जो सम्मान चिह्न दिए जाने हैं उन पर इस पेंटिंग की फोटो को लोगो के तौर पर लगाया जाएगा। इसका मकसद लोगों को संदेश देना है कि वह पर्यावरण को बचाने के लिए इस तरह समर्पित रहें। उन्होंने बताया कि इको ब्रिक मुहिम में बच्चों ने बेहतरीन काम किया है। उनका मकसद लोगों को पालीथिन के इस्तेमाल से रोकना है। माइशा का कहना है कि उन्होंने जब यह पेंटिंग बनाई थी तब उन्हें भी इस बात का एहसास नहीं था कि उनकी पेटिंग को सम्मान चिह्नों पर जगह मिलेगी।

 

kumbh-mela-2021

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप