संस, लुधियाना : समाज में बच्चों द्वारा बुजुर्गों के लिए गिरते आचरण तथा व्यवहार को देखते हुए, विश्व जागृति मिशन के संस्थापक संत सुधांशु जी महाराज ने आह्वान पर गीता मंदिर पक्खोवाल रोड़ में मातृ-पितृ दिवस मनाया गया। समारोह की अध्यक्षता मंडल के प्रधान रामचंद्र गुप्ता ने की। इस अवसर पर रामचंद्र गुप्ता ने कहा कि जिस प्रकार भारत वर्ष में भाई- बहन के लिए रक्षाबंधन, पति- पत्नी के लिए करवा चौथ मनाया जाता है। उसी तर्ज पर हमें वर्ष में एक दिन अपने माता-पिता की कृतज्ञता व्यक्त करने के लिए भी मनाना चाहिए। सुधांशु महाराज ने कहा कि हम पितृ पक्ष में अपने बिछड़े हुए बुजुर्गों के लिए 15 दिन श्राध मनाते हैं, परंतु कुछ लोग अपने जीवित माता-पिता की उपेक्षा करते हैं। इससे बचना चाहिए। इस दौरान समारोह में बुजुर्गों में सुरेश जोशी, सुरेशानंद, सुरजीत लाल, सोम लता जोशी, ऊषा रानी का सम्मान किया गया। महाराज से टेलीफोन पर संपर्क साधकर आशीर्वाद प्राप्त किया। इस अवसर पर सुदर्शन बंसल, संजीव कपूर, पुरुषोत्तम लाल, सुखदर्शन गुप्ता, संजीव साहनी, रमेश गुप्ता,अशोक जिदल, नरेश शर्मा, सतीश चावला, ललित शर्मा, शशि माथाल, पूनम धवन, अश्वनी दुआ, उषा रानी आदि शामिल थे।

Edited By: Jagran