Move to Jagran APP

Ludhiana News: ट्रांसफार्मर की खरीद में लाखों की धोखाधड़ी, अपराधिक धाराओं के तहत केस दर्ज

लुधियाना की फर्म से ट्रांसफार्मर की खरीद में लाखों की धोखाधड़ी करने के आरोप थाना फोकल प्वाइंट पुलिस ने नई दिल्ली के बाप-बेटों समेत 5 लोगों के खिलाफ विभिन्न अपराधिक धाराओं के तहत केस दर्ज करके उनकी तलाश शुरू की है।

By Jagran NewsEdited By: Himani SharmaPublished: Mon, 27 Mar 2023 01:12 PM (IST)Updated: Mon, 27 Mar 2023 01:12 PM (IST)
ट्रांसफार्मर की खरीद में लाखों की धोखाधड़ी

जागरण संवाददाता, लुधियाना: लुधियाना की फर्म से ट्रांसफार्मर की खरीद में लाखों की धोखाधड़ी करने के आरोप थाना फोकल प्वाइंट पुलिस ने नई दिल्ली के बाप-बेटों समेत 5 लोगों के खिलाफ विभिन्न अपराधिक धाराओं के तहत केस दर्ज करके उनकी तलाश शुरू की है। इंस्पेक्टर अमनदीप सिंह बराड़ ने बताया कि आरोपितों की पहचान नई दिल्ली के रोहिणी सेक्टर 28 निवासी सुनील कुमार जिंदल, उसके बेटे कुनाल जिंदल, पारव जिंदल, प्रदीप जिंदल तथा उनके पार्टनर अखिलेश यादव के रूप में हुई।

सभी आरोपित रिलायंस इलेक्ट्रिक वर्कस के हैं पार्टनर्स

पुलिस ने शिमला पुरी के गोबिंद नगर की गली नंबर 7 निवासी सुखवीर सिंह की शिकायत पर उनके खिलाफ उक्त केस दर्ज किया। मई 2022 में पुलिस कमिश्नर को दी शिकायत में उसने बताया कि वो फोकल प्वाइंट स्थित एमएच न्यूकोन स्विच गियर प्राइवेट लिमिटेड कंपनी में बतौर निरीक्षक व सेल्स इंजीनियर कार्य करता है। वहां ट्रांसफार्मर्स की मैन्यूफैक्चरिंग की जाती है। उक्त सभी आरोपित रिलायंस इलेक्ट्रिक वर्कस के पार्टनर्स हैं। उन लोगों ने 4 जुलाई 2020 में ट्रांसफार्मर्स खरीदने के लिए कंपनी के लेटर पैड पर एक परचेज आर्डर भेजा था।

ब्लैकमेल करके बदलना शुरू किया

आरोपितों ने सोची समझी साजिश के तहत परचेज आर्डर पर एग्रीमेंट की शर्तों को उन्हें ब्लैकमेल करके बदलना शुरू कर दिया। इसके अलावा जाली तौर पर आर्बीट्रेशन वाले क्लाज दस्तावेज के माध्यम से लिख दिए। पेमेंट के लिए अारोपितों ने जो चेक दिया था, 31 मार्च 2021 को बैंक में लगाने पर वो बाउंस हो गया।

आरोपितों ने फर्जी दस्तावेज के आधार पर उनकी कंपनी की फर्जी स्टांप तथा अधिकारित व्यक्ति के फर्जी दस्तखत स्कैन करके फर्जी दस्तावेज तैयार कर लिए। मामले की जांच कर रहे अधिकारियों ने आरोप सही पाए जाने पर उनके खिलाफ केस दर्ज करने की सिफारिश कर दी। डीए लीगल की राय लेने के बाद पुलिस ने उन पर केस दर्ज करके उनकी तलाश शुरू की है।


This website uses cookies or similar technologies to enhance your browsing experience and provide personalized recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.