लुधियाना, जेएनएन। Kisan Andolan: सांसद रवनीत सिंह बिट्टू (MP Ravneet Singh Bittu) व भारतीय किसान यूनियन के प्रधान बलबीर सिंह राजेवाल के बीच एक पोस्ट को लेकर गर्मागर्मी बढ़ गई है। सांसद बिट्टू ने राजेवाल व कांग्रेस के वरिष्ठ नेता मोहिंदर सिंह केपी की तस्वीरें पोस्ट कर लिखा, एक ओर किसान नेता लोगों को सियासी नेताओं से दूर रहने को कहते हैं, वहीं राजेवाल कांग्रेसी नेता केपी के साथ पकौड़े खा रहे हैं।

 

यह भी पढ़ें-Corona Vaccination: पंजाब में वैक्सीन लगवाने में लुधियाना नंबर वन, अब तक 50 हजार को लगा टीका

सिंघू बार्डर में गुमराहपूर्ण बयान देना सही नहीं

बिट्टू ने लिखा कि किसान नेताओं और राजनीतिज्ञों में हमेशा से गहरे संबंध रहे हैं और भविष्य में भी रहेंगे, लेकिन राजेवाल जब सिंघू बार्डर पहुंचते हैं तो पता नहीं उन्हें क्या हो जाता है। वह लोगों को भ्रमित करने लगते हैं। सांसद बिट्टू ने पोस्ट में राजेवाल को सलाह देते हुए कहा कि इन तस्वीरों के मार्फत मैं लोगों को समझाना चाहता हूं कि किसान नेता और हमारे जैसे जनता के प्रतिनिधियों का पंजाबियों से गहरा संबंध है। आपको सिंघू बार्डर से गुमराहपूर्ण बयान नहीं देने चाहिए।

यह भी पढ़ें-खेती में 'इंजीनियरिंग', मोगा के जसप्रीत ने इस तकनीक से खेती कर किया कमाल, स्ट्राबेरी से हुआ मालामाल

शोकसभा की फोटो सोशल साइट्स पर डालना गलत : राजेवाल

राजेवाल ने कहा कि लुधियाना के सांसद रवनीत बिट्टू के बयान देने से पहले सोचते तक नहीं। किसी शोकसभा की मौजूदगी की तस्वीरें इस तरह से सोशल साइट्स में पोस्ट करना सरासर गलत है। वह ऐसा कर किसान आंदोलन को ही ठेस पहुंचा रहे हैं। वह पठानकोट के पास एक करीबी के घर शोकसभा में गए थे और वहां पहली बार जालंधर के नेता माेहिंदर सिंह केपी से मिले। इससे पहले उनसे कभी मुलाकात नहीं हुई थी, लेकिन इसे गलत प्रचारित किया जा रहा है।

 

पंजाब की ताजा खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें

हरियाणा की ताजा खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें

Indian T20 League

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप

kumbh-mela-2021