जागरण संवाददाता, खन्ना : शराब छुड़ाने के नाम पर चार दिन पहले हरियाणा से खन्ना के एक करीबी गांव में लाए गए युवक की संदिग्ध परिस्थितियों में मौत हो गई। मृतक के परिजनों ने संचालकों पर हत्या का आरोप लगाकर मामला दर्ज करने की मांग की है। हालांकि, पुलिस ने घटना के संबंध में धारा 174 की कार्रवाई करते हुए पोस्टमार्टम के बाद शव वारिसों के हवाले कर दिया। कुलदीप सिंह निवासी शाहबाद, मारकंडा ने बताया कि उसका साला अमरीक सिंह निवासी गांव खेड़ी शहीद (हरियाणा) शराब पीने का आदी था। अमरीक सिंह को शराब छुड़ाने के लिए चार दिन पहले यहां लाए थे। मंगलवार की रात को एकेडमी वालों ने उन्हें फोन करके कहा कि अमरीक की हालत ठीक नहीं है। उसे अस्पताल में भर्ती कराया गया है। जब वे खन्ना स्थित आइवीवाइ अस्पताल पहुंचे तो वहां अमरीक सिंह को मृत करार दे दिया गया। परिजनों का आरोप है कि अमरीक सिंह के शरीर पर काफी निशान थे और बाजू पर टीके लगाने का निशान भी था, जिससे उन्हें शक जाहिर हुआ कि अमरीक सिंह से मारपीट की गई है और उसकी हत्या हुई है। कुलदीप सिंह ने कहा कि वे इस घटना संबंधी पुलिस के सीनियर अधिकारियों से मिलकर इंसाफ की गुहार लगाएंगे। अगर उन्हें जरूरत पड़ी तो अदालत का दरवाजा भी खटखटाया जाएगा। गुरबाणी से जोड़कर भटके लोगों को रास्ते पर लाते हैं

उधर, नशा छुड़ाओ केंद्र के संचालक ने कहा कि वह गुरबाणी सिखाते हैं और जीवन से भटके लोगों को गुरबाणी से जोड़कर उनका जीवन सुधारते हैं। अमरीक सिंह गुरबाणी सीखने आया था। मंगलवार की रात को उसकी सेहत खराब हुई तो आइवीवाइ अस्पताल में भर्ती कराया गया। वहां उसकी मौत हो गई। किसी ने उससे मारपीट नहीं की। परिजन जानबूझकर आरोप लगा रहे हैं। सब इंस्पेक्टर गुरजंट सिंह ने कहा कि मौत के असली कारण पोस्टमार्टम रिपोर्ट में सामने आएंगे।

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस

ਪੰਜਾਬੀ ਵਿਚ ਖ਼ਬਰਾਂ ਪੜ੍ਹਨ ਲਈ ਇੱਥੇ ਕਲਿੱਕ ਕਰੋ!