लुधियाना, जेएनएन। दुगरी फेज एक और दो को कंटेनमेंट जोन घोषित कर संपूर्ण लाकडाउन लगाया गया है। ऐसे में इलाके में रह रहे लोगों के मन में सवाल था कि क्या उन्हें वैक्सीनेशन के लिए वैक्सीनेशन सेंटर पर जाने दिया जाएगा। इसे लेकर सिविल सर्जन डा. सुखजीवन कक्कड़ ने स्पष्ट किया है कि वैक्सीनेशन को लेकर कोई रोकटोक नहीं होगी। जिन लोगों ने वैक्सीनेशन के लिए इलाके से बाहर बने वैक्सीनेशन सेंटरों पर जाना होगा, उनका पहले रैपिड टेस्ट किया जाएगा। टेस्ट में नेगेटिव आने के बाद ही उन्हें वैक्सीनेशन सेंटर पर जाने दिया जाएगा। इसके लिए हमारी टीमें इलाके में हैं। डा. कक्कड़ का कहना है कि बिना टेस्ट किए कंटेनमेंटजोन के लोगों को दूसरे इलाकों के वैक्सीनेशन सेंटर पर जाने देते हैं तो वहां पर कोरोना संक्रमण फैलने की संभावना हो सकती है। इसलिए एहतियात के तौर पर ये निर्देश जारी किए गए हैं। वैक्सीनेशन करवाने से किसी को रोका नहीं जाएगा।

गौर हो कि पिछले कुछ दिनों में ही दुगरी अर्बन एस्टेट इलाके में 70 लोग कोरोना संक्रमित पाए गए हैं। एक माह में दुगरी इलाका 12 बार माइक्रो कंटेनमेंट जोन घोषित किया जा चुका है। इसे देखते हुए इलाके को कंटेनमेंट जोन घोषित कर दिया गया है और रविवार रात नौ बजे से अगले आदेश तक लाकडाउन लगा दिया गया है। डीसी वरिंदर शर्मा ने इस संबंध में आदेश जारी करते हुए साफ किया है कि आवश्यक सेवाओं को छूट होगी। अस्पताल, मेडिकल स्टोर, मेडिकल टेस्ट कराने इत्यादि की छूट होगी। जरूरी सामान की होम डिलीवरी होगी। डिलीवरी देने वाले को प्रशासन से पास लेना होगा। जरूरी काम से जुड़े कर्मियों को भी आने-जाने की छूट होगी। इसके लिए अथारिटी से जारी पहचान पत्र होना अनिवार्य है।

जिला प्रशासन ने रात नौ बजे से लाकडाउन लागू करने का आदेश दिया तो इसकी तैयारियों को लेकर पुलिस दोपहर में ही एक्टिव हो गई। पुलिस की टीमों ने दोपहर बाद से ही इलाके के तमाम मोहल्लों में बने गेट बंद करने शुरू कर दिए। प्रमुख सड़कों पर बेरिके¨डग कर दी गई। साथ ही लोगों को घरों में रहने के लिए प्रेरित किया। इससे लोगों में रोष भी रहा। उनका तर्क था कि रात से लाकडाउन लगना है तो दोपहर से ही इतनी सख्ती क्यों? पुलिस ने अपने वाहनों पर लाउडस्पीकर लगा कर बाकायदा अनाउंसमेंट भी की।

 

Edited By: Rohit Kumar