जागरण संवाददाता, लुधियाना। गांव जसपाल बांगर में करीब एक महीना पहले घर के बाहर खेलते समय 11 वर्षीय बच्चे अर्जुन कुमार को एक पागल (हलकाए) कुत्ते ने काट लिया था। उसने अभिभावकों को यह बात नहीं बताई और कहा कि उसे खेेलते समय चोट लगी है। अभिभावक उसे गली में ही एक डाक्टर के पास ले गए और फिर बाबाओं के चक्कर लगाते रहे। शनिवार को उसकी सेहत खराब हो गई और दिमागी हालत बिगड़ने से शनिवार को उसकी मौत हो गई। थाना साहनेवाल की पुलिस ने इस मामले के केस दर्ज किया है।

बच्चे के पिता ने बताया कि वह सिक्योरिटी गार्ड है। उसके तीन बेटे व एक बेटी है। अर्जुन सबमें छोटा था। गली में खेलते समय उसे पागल कुत्ते ने काट लिया था। घर पर उसने बताया कि चोट लगी है। टेटनेस का टीका लगवाने के बाद उसको पट्टी करवा दी गई। एक हफ्ते बाद उसकी तबीयत बिगड़ने लगी। वह हवा और पानी से डरने लगा। उन्हें लगा कि इस पर भूत प्रेत का असर हो गया है। बच्चे को झाडफ़ूंक करने वाले बाबाओं के पास लेकर जाते रहे। शनिवार को भी बच्चे को एक धार्मिक स्थान पर बाबा के पास लेकर गए थे। जहां बाबा ने घंटों उसका झाड़ फूंक किया। वहीं पर बच्चे के मुंह से झाग निकलने लगी। उसे अस्पताल लेकर गए लेकिन तब तक उसकी मौत हो चुकी थी।

------

यह भी पढ़ें : हाईटेंशन तारों की चपेट में आए दो बच्चे, बुरी तरह झुलसे

लुधियाना : न्यू शिवपुरी गली नंबर दो में सोमवार की शाम करीब पांच बजे छत पर खेलते समय हाईटेंशन तारों से दो बच्चों को अचानक करंट लग गया। दोनों बच्चे बुरी तरह झुलस गए। बच्चों को इलाज के लिए सिविल अस्पताल पहुंचाया गया, जहां से एक बच्चे की गंभीर हालत को देखते हुए उसे पीजीआइ रेफर कर दिया गया है। दोनों बच्चों की पहचान विकास (14) व सत्यम (6) है। दोनों मौसेरे भाई हैं। विकास की मां सुमन ने बताया कि उसके एक बेटी व दो बेटे हैं। उसकी छोटी बहन भी अपने तीन बच्चों के साथ उन्हीं के पास रहती है। वह सभी मजदूरी करते हैं और करीब 15 दिन पहले ही यहां किराये पर रहने आए थे। वह सोमवार को भी काम पर गए हुए थे। शाम करीब पांच बजे विकास व सत्यम छत पर खेल रहे थे। छत के ऊपर से हाईटेंशन तारें निकल रही हैं। छत पर खेलते समय बच्चों को अचानक करंट लग गया। दोनों बच्चे 50 फीसद से अधिक झुलसे हुए है। धमाका सुनकर आसपास के लोग इकट्ठा हो गए।

Edited By: Vikas_Kumar