जेएनएन, लुधियाना। पंजाब कृषि विश्वविद्यालय (पीएयू) में दो दिवसीय किसान मेला शुक्रवार 15 मार्च से शुरू हो रहा है। दो दिन तक चलने वाले इस मेले में पंजाब, हिमाचल व जम्मू कश्मीर से करीब पचास हजार किसानों के पहुंचने की उम्मीद है। ऐसे में फिरोजपुर रोड और पीएयू कैंपस में ट्रैफिक जाम की स्थिति से निपटने के लिए पीएयू प्रशासन ने ट्रैफिक पुलिस के सहयोग से रूट प्लान तैयार किया है। पीएयू के एस्टेट अफसर डॉ. वी हांस ने बताया कि जो किसान वाहनों से मेला देखने आते हैं, उनकी गाडिय़ां पीएयू के गेट नंबर आठ और पांच से किसान मेले में दाखिल होंगी। जबकि भारी वाहन सिर्फ 8 नंबर गेट से ही कैंपस में आएंगे। 8 नंबर गेट के अंदर में खेतों को खाली करवाकर पार्किंग में तबदील कर दिया गया है। इसके अलावा हैलीपेड के पास भी पार्किंग की व्यवस्था की गई है। हालांकि पैदल व दोपहिया वाहन चालक दो, तीन, चार और छह नंबर गेट से कैंपस में आ सकते हैं।

पीएयू में किसान मेले को लेकर तैयार किया गया रूट प्लान।

आठ नंबर गेट तक जाने वाली सड़क की हालत सुधारी

गौर हो पीएयू के नए बाग से 8 नंबर गेट की तरफ जाने वाली सड़क पिछले कई महीने से जर्जर हालत में थी। इस सड़क को मेले के मद्दे नजर पिछले दो दिनों से बनवाया जा रहा है। ताकि मेले में आने वाले वाले लोगों को परेशानी न हो।

किसानों की सुविधा के लिए चलेंगे ई-रिक्शा और रिक्शा

डॉ. हांस ने बताया कि जो किसान आठ और पांच नंबर गेट से कैंपस में प्रवेश करके मेला देखने के आएंगे, उनकी सुविधा के लिए इस बार ई-रिक्शा और रिक्शा की व्यवस्था की जा रही हैं। किसान दस रुपये में पार्किंग स्थल से मेला ग्राउंड तक आसानी से पहुंच सकते हैं।

ऐसा हो रहा पहली बार

ऐसा पहली बार हो रहा है कि किसान मेले से एक दिन पहले तक मुख्यातिथि को लेकर संशय बना हुआ है। मेले में मुख्यातिथि कौन होगा, यह तय नहीं हो पाया था। हालांकि, पहले चर्चा थी कि मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंद्र सिंह मेले में आ सकते हैं। इसके बाद चीफ प्रिंसिपल सेक्रेटरी टू सीएम सुरेश कुमार के मेले में अतिथि के तौर पर आने की चर्चा हो रही थी। लेकिन अब तक यही सामने आया है कि इन दोनों में से मेले में कोई भी नहीं आएगा।

हरियाणा की ताजा खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें

पंजाब की ताजा खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें 

 

Posted By: Sat Paul

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप

ਪੰਜਾਬੀ ਵਿਚ ਖ਼ਬਰਾਂ ਪੜ੍ਹਨ ਲਈ ਇੱਥੇ ਕਲਿੱਕ ਕਰੋ!