खन्ना (लुधियाना), जेएनएन। विदेश में बच्चों को पढ़ाने और करियर बनाने के लिए भेजने के बाद अभिभावक किस कदर अकेले पड़ जाते हैं इसका एक दर्दनाक उदाहरण सोमवार को यहां देखने को मिला। इकलौती बेटी के कनाडा पढ़ने जाने के बाद टीचर मां अकेलेपन के कारण डिप्रेशन में आ गई। वह बेटी से बिछड़ने का गम सह न सकी और सोमवार सुबह खुद को पिस्तौल से कनपटी पर गोली मारकर आत्महत्या कर ली। घटना के समय परिवार के अन्य लोग सो रहे थे।

खन्ना के गुलमोहर नगर में रहने वाली निजी स्कूल में टीचर अंजलि बच्चों को ट्यूशन भी पढ़ाती थीं। सोमवार सुबह रोजाना की तरह बच्चे ट्यूशन पढ़ने आए तो किसी ने घर का मेन गेट नहीं खोला। बच्चे जब दरवाज़ा खड़काने लगे तो अंजलि के पति धरमिंदर बिस्तर से उठे। सामने देखा तो उनकी आंखें फटी की फटी रह गईं। फर्श पर अंजलि की खून से लथपथ लाश पड़ी थी। उन्होंने अपनी कनपटी पर गोली मारी थी।

पुलिस ने जांच शुरू की, मामला आत्महत्या का बताया

अंजलि के आत्महत्या करने की खबर मिलते ही मोहल्ले के लोग उनके घर पर इकठ्ठा हो गए। थोड़ी देर बाद पुलिस भी मौके पर पहुंच गई। फिंगर प्रिंट एक्सपर्ट इंस्पेक्टर पवनदीप सिंह और अन्य अधिकारी भी पहुंचे। उन्होंने लाश को कब्ज़े में ले कर जांच शुरू की। इंस्पेक्टर पवनदीप सिंह ने बताया कि फ़िलहाल मामला खुदकशी का लग रहा है। .32 बोर की पिस्तौल में काफी समय से पड़ी एक गोली से मौत हुई है। 

पति ने कहा- सानूं ता कनाडा खा गया

अंजलि की एक ही बेटी थी, जो पढ़ाई करने कनाडा गई हुई है। घर में अक्सर अकेली रहने करके वह मानसिक तनाव का शिकार हो गई थी। उसकी इस बीमारी का इलाज चल रहा था। पति धरमिंदर ने रोते हुए बताया कि, सानूं ता कनाडा खा गया।

लोग कहते थे- गॉडेस ऑफ साइंस

जानकारी के अनुसार अंजली चम खन्ना के एएस मॉडर्न सीनियर सेकेंडरी स्कूल की साइंस पढ़ाती थीं। साइंस विषय पढ़ाने में अंजलि को इतनी महारत हासिल थी कि उन्हें क्षेत्र में लोग गॉडे ऑफ साइंस कहते थे। इलाके के कई स्कूलों के बच्चे उनके पास ट्यूशन पढ़ने आते थे। 

हरियाणा की ताजा खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें

पंजाब की ताजा खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें 

Posted By: Pankaj Dwivedi

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस

ਪੰਜਾਬੀ ਵਿਚ ਖ਼ਬਰਾਂ ਪੜ੍ਹਨ ਲਈ ਇੱਥੇ ਕਲਿੱਕ ਕਰੋ!