Move to Jagran APP

पंजाब में रिश्वतखोर जेई रिम सहारे दौड़ाता रहा कार, विजिलेंस ने 10 किमी पीछा कर दबोचा

पंजाब के सरहिंद में पावरकाम का जेई रिटायरमेंट के एक महीने पहले भ्रष्टाचार के केस में फंस गया। वह विजिलेंस टीम से बचने के लिए कार को दस किलोमीटर तक बिना टायर के ही रिम के सहारे भगा ले गया लेकिन विजिलेंस ने उसे दबोच लिया।

By Kamlesh BhattEdited By: Published: Sun, 10 Jan 2021 10:21 AM (IST)Updated: Sun, 10 Jan 2021 10:27 AM (IST)
रिम के सहारे कार भगाता रहा रिश्वतखोर जेई। सांकेतिक फोटो

जेएनएन, सरहिंद (फतेहगढ़ साहिब)। विजिलेंस की टीम ने शनिवार को पावरकाम के जेई पवित्तर सिंह और उसके साथी गुरमेल सिंह को भ्रष्टाचार के मामले में गिरफ्तार किया है। गिरफ्तारी के बाद दोनों आरोपितों को अदालत में पेश करके दो दिन का रिमांड हासिल किया गया है। विजिलेंस ने आरोपितों से रिश्वत के रूप में लिए गए पांच हजार रुपये के अलावा बिजली के सात मीटर भी बरामद किए हैैं।

जेई को पकड़ने के लिए विजिलेंस को काफी मशक्कत करनी पड़ी। दरअसल, जेई ने विजिलेंस की टीम को देखकर अपनी कार में सवार होकर मौके से फरार होने की कोशिश की। कुछ दूरी पर जाकर उसकी कार का टायर फट गया, लेकिन वह रिम के सहारे कार को दौड़ाता रहा। उसे पकड़ने के लिए विजिलेंस की टीम को 10 किलोमीटर तक पीछा करना पड़ा।

विजिलेंस अधिकारियों के अनुसार जिला फतेहगढ़ साहिब के कस्बा खमाणों के गांव लोहार माजरा के रहने वाले सपिंदर सिंह ने जेई के खिलाफ शिकायत दी थी। सपिंदर सिंह ने शिकायत में कहा था कि जेई पवित्तर सिंह ने उसके घर में छापामारी कर एक पुरानी बिजली की तार कब्जे में ली और चोरी के केस में फंसाने व उसका बिजली मीटर लेबोरेटरी में भेजकर भारी जुर्माना करवाने की धमकी दी। ऐसा न करने के लिए 20 हजार रुपये रिश्वत मांगी। इसके बाद जेई के साथी व पावरकाम के अस्थाई कर्मी गुरमेल सिंह ने सपिंदर के साथ 10 हजार रुपये में सौदा तय किया।

सपिंदर ने फतेहगढ़ साहिब विजिलेंस से संपर्क किया और रिश्वत की पहली किस्त 5000 रुपये गुरमेल सिंह को दिए। जिसके तुरंत बाद विजिलेंस ने गुरमेल सिंह को काबू कर लिया। इस दौरान जेई पवित्तर सिंह गांव हरगना में मीटर चेक करने का काम कर रहा था। विजिलेंस टीम जैसे ही वहां पहुंची तो जेई अपनी कार भगा निकला। टायर फटने के बाद पवित्तर रिम पर ही कार दौड़ाता रहा। विजिलेंस की टीम ने 10 किलोमीटर पीछा कर उस मंडी गोबिंदगढ़ में काबू किया गया।

एक महीने बाद थी सेवानिवृति

जेई पवित्तर सिंह की रिटायरमेंट में केवल एक महीने का वक्त ही बचा था और वह भ्रष्टाचार के मामले में फंस गया। विजिलेंस के इंस्पेक्टर प्रितपाल सिंह ने बताया कि पवित्तर के खिलाफ लुधियाना विजिलेंस ने भी दो मामले दर्ज हैैं, उसका पुराने रिकार्ड की जानकारी भी हासिल की जा रही है।


This website uses cookies or similar technologies to enhance your browsing experience and provide personalized recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.