फतेहगढ़ साहिब [धरमिंदर सिंह]। Ayushman Bharat Scheme (सरबत सेहत बीमा योजना) में लगातार सामने आए फर्जीवाड़ा को दैनिक जागरण की तरफ से उजागर किए जाने के बाद मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह ने भी मामले में कड़ा संज्ञान लिया है। मुख्यमंत्री ने चंडीगढ़ में सेहतमंत्री बलबीर सिद्धू और सेहत सचिव अनुराग अग्रवाल से रिव्यू मीटिंग की। सिद्धू ने उन्हें अब तक इस योजना के तहत बने कार्डों व लाभार्थियों की विस्तृत रिपोर्ट सौंपी।

सिद्धू ने स्वास्थ्य विभाग व स्टेट हेल्थ एजेंसी के उच्च अधिकारियों से भी बैठक की, जिसमें उन्होंने खुद स्टेट हेल्थ एजेंसी की तरफ से जारी 37 फर्जी ई-कार्डों को रद किया। साथ ही कार्ड जारी करने में अनियमितताओं का सख्त नोटिस लिया और सभी सिविल सर्जनों को समूह कॉमन सर्विस सेंटरों की बारीकी से जांच करने के निर्देश दिए। फतेहगढ़ साहिब में सामने आए फर्जी कार्ड के लाभार्थियों का पता लगाने के लिए व्यापक ऑडिट जांच कराने की हिदायत भी दी। जिले के सभी कॉमन सर्विस सेंटरों में ई-कार्ड जारी करने की प्रक्रिया पर भी अगले आदेशों तक रोक लगा दी है। 

सिद्धू ने बताया कि जिन लॉग-इन आइडी से फर्जी कार्ड बनाए हैं, उन सभी के खिलाफ जिला स्वास्थ्य अथॉरिटी ने कानूनी कार्रवाई शुरू कर दी है। अधिकारियों को कहा कि जिन कार्डों पर मरीजों का इलाज हुआ है, उनकी भी जांच की जाए कि सभी केस सही हैं या नहीं। सेहत मंत्री ने कहा कि इस योजना में किसी भी स्तर पर की गई लापरवाही व जालसाजी को बर्दाश्त नहीं की जाएगी। चेतावनी दी कि जो संस्था या व्यक्ति दोषी पाया गया, उस पर सख्त कार्रवाई होगी।

पंजाब में अब तक बने 40 लाख से अधिक कार्ड

बैठक में स्वास्थ्य मंत्री बलवीर सिद्धू ने मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह को स्वास्थ्य बीमा योजना की रिपोर्ट सौंपी। बताया कि योजना शुरू होने से लेकर अब तक 40 लाख एक हजार 232 ई-कार्ड बन चुके हैं। इनमें से एक लाख 5 हजार 188 मरीजों का इलाज हो चुका है। 1986 मरीजों की हार्ट सर्जरी, 2598 मरीजों के घुटनों के ऑपरेशन, 1680 मरीजों का कैंसर का इलाज और 16180 मरीजों का डायलिसिस किया जा चुका है।

सेहत मंत्री ने दैनिक जागरण में छपी खबरों की कटिंग्स दिखा अफसरों को लगाई लताड़ा

स्टेट हेल्थ एजेंसी व सेहत विभाग के अधिकारियों से मीटिंग में स्वास्थ्य मंत्री बलबीर सिंह ने दैनिक जागरण में प्रकाशित खबरों की कटिंग्स भी दिखाई। लताड़ लगाई कि वेखो तुहाड़े करके किन्ना जलूस निकल गया। (देखिए, आप लोगों के कारण कितना जलूस निकल गया)

अधिकारियों ने सिस्टम का हवाला दिया तो बोले- पहलां नीं दिखदा सी सिस्टम ठीक रखणा.. हुण जदों जलूस निकल गया तां सॉफ्टवेयर बदलदे पए ओं। (पहले नहीं दिखाई दिया कि सिस्टम ठीक रखना है...अब जब जलूस निकल गया तो साफ्टवेयर बदलने को कह रहे हो।) 

कार्रवाई

  • पंजाबभर के सिविल सर्जन को कॉमन सर्विस सेंटरों की जांच व ऑडिट के भी दिए निर्देश 
  • फतेहगढ़ साहिब में अगले आदेशों तक नए कार्ड बनाने पर लगाई रोक
  • जिनका अब तक इलाज हुआ, उनके केस भी जांचे जाएंगे कि वे लाभार्थी थे या नहीं
  • जिन लोगों की आइडी से फर्जी कार्ड बने, उन पर कानूनी कार्रवाई शुरू

हरियाणा की ताजा खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें

पंजाब की ताजा खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें 

Posted By: Kamlesh Bhatt

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस

ਪੰਜਾਬੀ ਵਿਚ ਖ਼ਬਰਾਂ ਪੜ੍ਹਨ ਲਈ ਇੱਥੇ ਕਲਿੱਕ ਕਰੋ!