जागरण संवाददाता बठिंडा। Farmers Protest:  गुलाबी सुंडी प्रभावित गांवों का दौरा करने गए सुखबीर बादल काे शनिवार को किसान यूनियन ने काले झंडे दिखाकर विरोध किया। सुखबीर बादल ने गांव रुलदू सिंह वाला से गांवों का दौरा शुरु किया और पहले ही गांव में उनको विरोध का सामना करना पड़ा। गांव सेखू पहुंचने पर किसान युनियन सिद्धुपुर के सदस्यों ने उनका जमकर विरोध किया।

किसान नेता करतार सिंह ने कहा कि जब सभी राजनीतिक दलों को यह अपील की गई है कि जितनी देर तक तीनों खेती कानून रद नहीं किए जाते तब तक कोई भी नेता गांवों में राजनीति करने के लिए न आए। उन्होंने कहा कि भले ही आज का दौरा सीधे तौर पर राजनीतिक नहीं है लेकिन वे गुलाबी सुंडी प्रभावित गांवों का दौरा करने का बहाना बना कर गांवों में घुसना चाहते हैं। इस कारण ही उनको काली झंडियां दिखाई गई हैं।

यह भी पढ़ें-Punjab New Cabinet: गुरकीरत कोटली के मंत्री बनने पर गदगद खन्ना के कांग्रेसी, इंटनेट मीडिया पर लगी बधाइयां देने वालों की झड़ी

नेताओं पर राजनीति करने का लगाया आराेप

गुलाब सिंह ने कहा कि खेती बिलों के कारण किसानों पर आफत बनी हुई है और बाकी बचती कसर गुलाबी सुंडी ने निकाल दी। किसानों की नरमे की पूरी फसल बर्बाद हो गई है और नेताओं को राजनीति करने की बनी है। उन्होंने कहा कि अकाली दल की सरकार के समय सफेद मक्खी के कारण किसानों की फसलें बर्बाद हो गई थी। लेकिन उस समय भी मुआवजा देने को अकाली सरकार तैयार नहीं थी। किसानों को मुआवजा लेने के लिए लंबा संघर्ष करना पड़ा था। अब उनकी विरोधी सरकार है तो उनको गांवों का दौरा करना याद आ गया। अपनी सरकार के समय क्यों सफेद मक्खी से प्रभावित गांवों में नहीं आए। किसानों ने कहा कि किसी भी राजनीतिक पार्टी को गांवों में नहीं आने दिया जाएगा। जो भी नेता आएगा उनका सख्त विरोध किया जाएगा।

यह भी पढ़ें-Punjab Politics: कांग्रेस MLA राजा वड़िंग की अकाली दल काे चुनाैती, बादल परिवार के बाहर से CM करें घाेषित

 

Edited By: Vipin Kumar