Move to Jagran APP

किसान आंदोलन के कारण पंजाब में पटरी से उतरने लगे उद्योग, कच्चा माल न मिलने से उत्पादन ठप

किसान आंदोलन के कारण पंजाब की इंडस्ट्री लड़खड़ाने लगी है। पटियाला में प्लास्टिक कटिंग टूल फूड प्रोडक्ट्स व वुडवर्क के उद्योगों को कच्चा माल नहीं पहुंच पा रहा है। इससे इन इंडस्ट्रीज में उत्पादन गिर गया है ।

By Kamlesh BhattEdited By: Thu, 17 Dec 2020 10:12 AM (IST)
पंजाब में लड़खड़ाई इंडस्ट्री। इंडस्ट्री की सांकेतिक फोटो

पटियाला [प्रेम वर्मा]। दिल्ली में किसान आंदोलन के कारण पटियाला के उद्योगों पर संकट के बादल मंडराने लगे हैं। प्लास्टिक से लेकर कटिंग टूल उद्योगों में कच्चा माल नहीं पहुुंचने से उत्पादन ठप हो गया है। उद्योगपतियों का कहना है कि अगर कुछ और दिन ऐसे हालात रहे तो कुछ यूनिटों में ताला लगाने की नौबत आ जाएगी।

यह भी पढ़ें : सनी देओल को मिली वाई सिक्योरिटी, पठानकोट आवास के पास भी बढ़ी सुरक्षा, जानें क्या है वजह

फोकल प्वाइंट इंडस्ट्री एसोसिएशन ने सरकार से इस संकट बाहर निकालने की गुहार लगाई है। आंदोलन के कारण 75 रुपये प्रति किलो मिलने वाला प्लास्टिक का कच्चा माल 150 रुपये में मिल रहा है। कीमतें बढऩे के कारण उद्योगों ने उत्पादन बंद कर दिया है। कटिंग टूल उद्योग भी दिल्ली से कच्चे माल की सप्लाई न होने से बहुत कम उत्पादन कर रहे हैं। ट्रांसफार्मर व फूड प्रोडक्शन से संबंधित उद्योग भी दिल्ली व गुरुग्राम के डीलरों सामान नहीं भेज पा रहे हैं। कई उद्योग तो लेबर को छुट्टी पर भेजने की तैयारी कर रहे हैं। 

उद्योग                  कुल यूनिट

कटिंग टूल इंडस्ट्री          70

प्लास्टिक                   80

सेनेटरी गुड्स               200

फूड प्रोडक्ट                30

पेपर मिल                    3

ट्रांसफार्मर पाट््र्स             4

छह से दिन काम ठप

संजीव गोयल ट्रांसफार्मर उद्योग से जुड़े हैं। दिल्ली से उन्हें एल्यूमिनियम सहित अन्य सामान आता है। आंदोलन के कारण सप्लायर सामान नहीं भेज पा रहे हैं। छह दिन से उनका काम पूरी तरह ठप है।

कच्चे माल की कीमत बढ़ी

फोकल प्वाइंट इंडस्ट्री एसोसिएशन के प्रधान रोहित बांसल कहते हैं कि लकड़ी व वुडवर्क का कच्चा माल दिल्ली से आता है। बाजार में प्लाई की कीमत दस फीसद बढ़ चुकी है। अन्य सामान की कीमत 50 से 150 रुपये प्रति किलो तक बढ़ गई है।

गुरुग्राम की सप्लाई हुई बंद

एचपीएस लांबा का फूड प्रोडक्ट्स का कारोबार है। दिल्ली और गुरुग्राम के डीलर उनसे सामान नहीं मंगवा रहे हैं। गुरुग्राम के लिए ट्रांसपोर्टर पांच हजार रुपये अधिक किराया मांग रहे हैं। उन्होंने उत्पादन कम कर दिया है।

उद्योग चलाना हुआ मुश्किल

फोकल प्वाइंट इंडस्ट्री एसोसिएशन के महासचिव अश्वनी गुप्ता सेनेटरी गुड्स का कारोबार करते हैं। दिल्ली से आने वाले सामान की सप्लाई बंद है। उद्योग चलाना मुश्किल हो गया है।

यह भी पढ़ें : पंजाब में 3 SP व 2 DSP सहित 925 पुलिसकर्मियों पर हैं केस दर्ज, सरकार ने हाई कोर्ट में दी जानकारी