गुरप्रेम लहरी, बठिंडा। Punjab Assembly Election 2022: सत्ता विरोधी लहर (एंटी इनकंबेंसी) से बचने के लिए कांग्रेस इस बार बड़े पैमाने पर विधायकों के हलके (क्षेत्र) बदलने जा रही है। दो मंत्रियों के नाम की भी चर्चा है। जिन हलकों में लोगों में सरकार के प्रति ज्यादा नाराजगी है, वहां के विधायकों को दूसरे विधानसभा क्षेत्र से चुनाव मैदान में उतारा जाएगा। ऐसे विधायकों की संख्या 15 से बीस के आसपास बताई जा रही है।

शुरुआत बठिंडा से होने जा रही है। आम आदमी पार्टी छोड़कर कांग्रेस में आईं रुपिंदर कौर रूबी को अब बठिंडा देहाती के बजाय श्री मुक्तसर साहिब जिले के हलके मलोट से उतारने की तैयारी है, जबकि मलोट से विधायक डिप्टी स्पीकर अजायब सिंह भट्टी को भुच्चो हलके में भेजने की योजना है। इसी प्रकार भुच्चो हलके से विधायक प्रीतम सिंह कोटभाई को बठिंडा देहाती हलके में भेजा जा रहा है।

वहीं, दो मंत्रियों व मोगा जिले से तीन विधायकों का नाम चल रहा है। मंत्रियों में विजय इंदर सिंगला व मनप्रीत बादल के नाम की चर्चा है। वहीं, मोगा में हरजोत कमल और कुछ और विधायकों के बारे में भी कयास लग रहे हैं। गौरतलब है कि कांग्रेस के प्रदेश अध्यक्ष नवजोत सिंह सिद्धू ने कुछ दिन पहले ही कहा था कि सिटिंग विधायकों के टिकट काटे जाएंगे। इसके बाद से ही कांग्रेस विधायकों में हलचल शुरू हो गई थी।

बठिंडा में कांग्रेस पार्टी ने यह मन बना लिया है कि भुच्चो से विधायक प्रीतम सिंह कोटभाई का हलका बदल कर बठिंडा देहाती भेजा जाना है। उनकी जगह पर मलोट के विधायक अजायब सिंह भट्टी को भुच्चो भेजा जाना है, लेकिन फिर भी प्रीतम सिंह कोटभाई अपना हलका छोड़ना नहीं चाहते। वह भुच्चो से ही चुनाव लड़ने के इच्छुक हैं।

कोटफत्ता व भट्टी एक बार फिर हो सकते हैं आमने-सामने

पूर्व विधायक दर्शन सिंह कोटफत्ता व मौजूदा कांग्रेस विधायक अजायब सिंह भट्टी एक बार फिर आमने-सामने हो सकते हैं। 2017 के चुनाव में दोनों ही मलोट से चुनाव लड़े थे और भट्टी की जीत हुई थी। अब दोनों भुच्चो से आमने-सामने हो सकते हैं। इस बात की पुष्टि इस बात से भी होती है कि भट्टी की बेटी जीवनजोत कौर ने भुच्चो हलके के गांवों में प्रचार शुरू कर दिया है। वह हर गांव के गैर सियासी समागमों में बढ़-चढ़ कर भाग ले रही हैं।

मौड़ हलके में भी हो सकता है बदलाव

बठिंडा के मौड़ विधानसभा हलके में 2017 में हरमंदर सिंह जस्सी को कांग्रेस की ओर से टिकट दी गई थी, लेकिन बाद में आम आदमी पार्टी से चुनाव जीतने वाले विधायक जगदेव कमालू कांग्रेस में शामिल हो गए। इनके अलावा पूर्व विधायक मंगत राय बंसल की पत्नी डा. मंजू बंसल भी हलके में काफी सरगर्म हैं। ऐसे में मौड़ हलके की भी इस बार टिकट बदले जाने की संभावना है।

सिद्धू मूसेवाला के चुनाव लड़ने की चर्चा

विवादित पंजाबी गायक सिद्धू मूसेवाला के भी चुनाव लड़ने की चर्चा है। वह कांग्रेस पार्टी से मानसा जिले के हलके सरदूलगढ़ या मानसा से कांग्रेस के उम्मीदवार हो सकते हैं। हालांकि, इसकी अब तक कोई अधिकारिक पुष्टी तो नहीं है, लेकिन सिद्धू के पारिवारिक सदस्य इस बात की हामी भर रहे हैं कि सिद्धू चुनाव लड़ सकते हैं। कांग्रेस उनको टिकट देती है या नहीं, मूसेवाला चुनाव लड़ते हैं या नहीं, यह तो आने वाला समय ही बताएगा, लेकिन इस समय चर्चाओं का बाजार जरूर गर्म है।

Edited By: Kamlesh Bhatt