लुधियाना (वेब डेस्क)। मुख्यमंत्री प्रकाश सिंह बादल ने राज्य में सशक्तिकरण को प्रोत्साहन देने के लिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को विशेषज्ञों का समूह गठित करने की अपील की है। उन्होंने कहा कि हमारी आर्थिकता का मुख्य केंद्र कृषि क्षेत्र अब लाभप्रद नहीं रहा। लुधियाना में पंजाब कृषि विश्वविद्यालय में सूक्ष्म, लघु एवं मध्यम उद्योग के लगभग 250 उद्यमियों को सम्मान्नित करने तथा महिलाओं को चरखे वितरण के लिए करवाए समारोह के अवसर पर मुख्यमंत्री ने यह बात कही।

बादल ने कहा कि विभिन्न कारणों से पंजाब की आर्थिकता को बहुत बड़ा धक्का लगा है जिसमें स्वतंत्रता के पश्चात देश का विभाजन, लंबा समय आंतकवाद रहना, पड़ोसी राज्यों को खुली रियायतें देना तथा भेदभाव वाली भाड़ा नीति जैसे कारण शामिल हैं। उन्होंने पड़ोसी देश की गतिविधियों से हमारे सीमावर्ती जिले बुरी तरह प्रभावित हुए हैं जिसके फलस्वरूप आर्थिक पिछड़ेपन का सामना करना पड़ रहा है। इस कारण केंद्र सरकार इस मसले को पहल के आधार पर सुलझाने के लिए आगे आए, ताकि राज्य के मेहनती एवं उद्यमियों के लिए बेहतर अवसर यकीनी बनाए जा सकें।

पाकिस्तान के कब्जे वाले कश्मीर में सर्जिकल हमलों द्वारा आंतकवादी ठिकानों को तबाह करने पर मोदी को बधाई देते हुए मुख्यमंत्री ने कहा कि इस विलक्षण एवं साहासिक कदम ने देशवासियों में देशभक्ति का जज्बा पैदा किया है। मुख्यमंत्री ने मोदी से एम्स का नींवपत्थर रखने के लिए आने को कहा। मोदी ने अपील को स्वीकार करते हुए कहा कि जब भी राज्य सरकार उन्हें एम्स का नींवपत्थर रखने के लिए न्यौता देगा तो वह इसके लिए अवश्य पहुचेंगे।

पढ़ें : इधर 'मेक इन इंडिया' पर जोर, उधर 'मेक इन पंजाब' कमजोर

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस

ਪੰਜਾਬੀ ਵਿਚ ਖ਼ਬਰਾਂ ਪੜ੍ਹਨ ਲਈ ਇੱਥੇ ਕਲਿੱਕ ਕਰੋ!