लुधियाना,[आशा मेहता]। कोरोना वायरस के संक्रमण को रोकने के लिए लेकर केंद्र व राज्य सरकार हर तरह के एहतियात बरत रही है। इसी कड़ी में अब पंजाब कृषि विश्वविद्यालय ने भी बड़ा कदम उठाया है। यूनिवर्सिटी प्रशासन ने शुक्रवार से सुबह व शाम को सैर के लिए आने वाले सहित सभी आउटसाइडर की एंट्री पर प्रतिबंध लगा दिया है। हालांकि यह अभी स्पष्ट नहीं किया गया है कि प्रतिबंध कब तक रहेगा, लेकिन अधिकारियों का कहना है कि लोगों की सुरक्षा को देखते हुए जब तक स्थिति सामान्य नहीं होती, तब तक यह प्रतिबंध लागू रह सकता है।

पीएयू के एस्टेट अफसर की ओर से आदेश जारी होते ही सभी एंट्री गेटों पर सुरक्षा कर्मियों ने सख्ती से कैंपस में लोगों को आने से रोका। केवल यूनिवर्सिटी के स्टाफ व जिन वाहनों पर यूनिवर्सिटी का स्टीकर लगा हुआ था, उन्हीं को कैंपस में प्रवेश करने दिया गया, जिन लोगों के रिश्तेदार या परचित कैंपस में रहते हैं, उनके आइकार्ड रखने और फोन पर बात कराने के बाद ही जाने दिया गया। शाम को पांच बजे के बाद जब सैर करने के लिए लोग कैंपस के अलग अलग गेटों पर पहुंचे तो सुरक्षा कर्मियों ने यूनिवर्सिटी प्रशासन द्वारा निकाले गए नोटिस की कॉपी दिखते हुए हाथ जोड़कर सहयोग करने की अपील करते हुए सभी को लौटा दिया। सैर करने वालों ने भी यूनिवर्सिटी के इस निर्णय के पीछे के कारणों को समझा और किसी तरह का बवाल नहीं किया।

जरूरी काम वाले नहीं रोके जाएंगे

पीएयू के एस्टेट ऑफिसर डॉ. अशोक कुमार ने कहा कि कोरोना वायरस के संक्रमण को लेकर केंद्र व राज्य सरकार की तरफ से जारी किए गए दिशा-निर्देशों का पालन करते हुए यह फैसला लिया गया है। यह कदम सभी की सुरक्षा को देखते हुए उठाया गया है, जिन्हें यूनिवर्सिटी में जरूरी काम होगा, उन्हें नहीं रोका जाएगा। उनके आइडी कार्ड रखवाकर एंट्री दी जाएगी, लेकिन उनकी लोगों से अपील है कि अगर बहुत जरूरी हो, तो ही यूनिवर्सिटी में आएं। इस फैसले से किसान प्रभावित नहीं होंगे। यूनिवर्सिटी का बीज केंद्र एक नंबर गेट के बाहर है। अगर किसी किसान को किसी तरह की समस्या आए, तो संपर्क करें।

कैंटीनों में 20 से अधिक लोग नहीं बैठ सकेंगे

पीएयू के एस्टेट ऑफिसर डॉ. अशोक कुमार ने कहा कि कैंपस स्थित कैंटीन संचालकों को भी कुछ दिशा निर्देश जारी किए गए हैं, जिसके तहत हरेक कैंटीन संचालक को कहा गया है कि वह अपने यहां बीस से अधिक लोगों को न बैठाएं। कैंटीनों पर साफ सफाई रखें। यूनिवर्सिटी प्रशासन की ओर से इस निर्देश का पालन हो रहा है या नहीं, इसे लेकर बकायदा चेकिंग भी की जाएगी।

खेल मैदानों में नहीं होंगी खेल गतिविधियां

डायरेक्टर स्टूडेंट वेलफेयर डॉ. रविंदर कौर धालीवाल की ओर से भी एक दिशा निर्देश जारी किए गए हैं, जिसके तहत कहा गया है कि कैंपस में स्थित जिम्नेजियम सहित सभी खेल मैदानों में 31 मार्च तक कोई भी खेल गतिविधि नहीं होगी। डॉ. धालीवाल ने कहा कि यह निर्णय खिलाडिय़ों की सुरक्षा को देखते हुए उठाया गया है। 

हरियाणा की ताजा खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें

पंजाब की ताजा खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें 

 

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस

ਪੰਜਾਬੀ ਵਿਚ ਖ਼ਬਰਾਂ ਪੜ੍ਹਨ ਲਈ ਇੱਥੇ ਕਲਿੱਕ ਕਰੋ!