जागरण संवाददाता, लुधियाना : नौ दिन पहले शहर के सलेम टाबरी इलाके से चुराया गया चार माह का बच्चा उत्तर प्रदेश के लखीमपुर से बरामद कर लिया गया। बच्चा चुराने वाले दंपती को भी पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया है। पुलिस कमिश्नर गुरप्रीत भुल्लर ने बच्चे राम लाल को उसकी मां को सौंपा।

पुलिस कमिश्नर ने बताया कि 19 नवंबर को थाना सलेम टाबरी इलाके में स्थित ग्रीनलैंड स्कूल के पास से चार माह के बच्चे को कुछ लोगों ने चुरा लिया था। सूचना मिलने पर पुलिस व सीआइए की टीमें बनाकर बच्चे की तलाश शुरू की गई। जांच के दौरान टीमों ने पहले कार का पता लगाया और उसके मालिक रिजक पाल सिंह निवासी सीआरपीएफ कालोनी दुगरी की जानकारी हासिल कर उससे पूछताछ शुरू की। रिजक पाल ने पुलिस को बताया कि लाकडाउन के दौरान उन्होंने कार चूहड़पुर रोड पर रहने वाले अवधेश को बेची थी, जो एसी रिपेयर करने का काम करता है। जब पुलिस अवधेश की तलाश करते हुए चूहड़पुर पहुंची तो जानकारी मिली कि अवधेश उत्तर प्रदेश के जिला लखीमपुर के थाना मैलानी के अधीन आते गांव कांप उत्तरी टांडा का रहने वाला है।

अवधेश का पता मिलने के बाद थानेदार दविदर सिंह, मुख्य अफसर जिदर लाल, गुरसाहिबप्रीत सिंह और महिला कांस्टेबल राज रानी की टीम लखीमपुर रवाना हुई। लखीमपुर की स्थानीय पुलिस के साथ टीम ने अवधेश के घर पर रेड की, जो लखमीपुर से 20 किलोमीटर दूर नेपाल बार्डर के पास जंगलों में था। पुलिस ने अवधेश और उसकी पत्नी जूही को गिरफ्तार कर लिया। साथ ही उनसे चार माह का बच्चा भी बरामद कर लिया। दोनों की उम्र 31-31 साल है।

जूही के दो विवाह हुए हैं और पहले पति से उसकी एक 15 साल की बेटी है। जूही ने बताया कि दूसरी शादी के बाद बच्चा नहीं होने पर उन्होंने रूपा देवी के घर की रेकी की और उन्हें पता चला कि उनके चार लड़के और चार लड़कियां हैं। उसके बाद उन्होंने उसका बच्चा चुराने की योजना बनाई। उसके बाद उन्होंने रूपा देवी को बच्चों के लिए कपड़े का लालच देकर बुलाया और बच्चा ले भागे।

ऐसे चुराया था बच्चा

रूपा देवी के घर सुबह 19 नवंबर को सुबह लगभग 9:30 बजे मास्क लगाकर एक व्यकित आया था। उसने बताया कि उनके बच्चों के कपड़े अच्छे नहीं है और वह शाम को उनके लिए कपड़े लेकर आएगा। शाम को वह व्यक्ति आया और रूपा देवी से कहा कि वह कपड़े लेकर आए हैं और थोड़ी दूर पर कार में उनकी पत्नी बैठी है। तुम अपने छोटे बच्चे को लेकर कार के पास आ जाओ। जब रूपा देवी चार माह के राम लाल को लेकर उसकी कार के पास पहुंची तो वह व्यक्ति तेजी से चलकर ड्राइविग सीट पर बैठ गया और उसने कार स्टार्ट कर ली। कार में बैठी महिला (मुंह पर मास्क लगा हुआ) ने रूपा देवी को कहा कि उसका बेटा बहुत सुंदर है और वह कार की खिड़की से ही उसे प्यार करने लगी। इसी दौरान एकाएक उसने झपटा मारकर बच्चे को अंदर खींच लिया और ड्राइवर ने गाड़ी भगा ली।

Edited By: Jagran