लुधियाना, जेएनएन। आप हमारे रीयल हीरो हैं। दस महीने तक कोरोना वायरस से बिना हथियार लड़ाई लड़ लोगों की सुरक्षा की। आज जब वैक्सीन के रूप में हथियार मिल गया है तो उस पर विश्वास जगाने के लिए सबसे पहले खुद आगे आए और टीका लगवाया।

हीरो डीएमसी हार्ट इंस्टीट्यूट के सीनियर कार्डियोलॉजिस्ट डॉ विश्व मोहन को गगनदीप कौर लुधियाना का पहला कोवा शील्ड लगवाने वाले बने।

सेशन साइट : हीरो डीएमसी हार्ट इंस्टीट्यूट

डाक्टर : सीनियर कार्डियोलाजिस्ट डा. बिश्व मोहन

समय : सुबह 11:30 बजे

वैक्सीन : कोविशील्ड

- डा. बिश्व मोहन ने कहा 'वैक्सीन को लेकर कुछ हेल्थ केयर वर्करों में आशंका थी। उनका डर दूर हो जाए इसलिए पहले खुद टीका लगवाया। इसके बाद पहले ज्यादा सुरक्षित महसूस कर रहा हूं। हालांकि अभी दूसरी डोज बाकी है। टीका लगने बाद मैंने ओपीडी और इमरजेंसी भी देखी। वैक्सीन लगाकर ही कोरोना से जंग जीती जा सकती है।

---------

सेशन साइट : सिविल अस्पताल खन्ना

डाक्टर : रिटायर्ड एसएमओ डा. राजिंदर गुलाटी

समय : 12:18 बजे

वैक्सीन : कोविशील्ड

- दिसंबर 31 को रिटायर्ड हुए डाक्टर गुलाटी कहते हैं सबसे पहले टीका लगवाकर टीम का उत्साह बढ़ाना चाहते हैं। वह बिलकुल सुरक्षित महसूस कर रहे हैं। इसके बाद भी अपने सामान्य काम पहले की तरह ही कर रहे हैं। हेल्थ केयर वर्कर्स को अफवाहों में नहीं आना चाहिए।

----------

सीएमसी अस्पताल के सेशन साइट पर दोपहर 12 बजकर 30 मिनट पर क्रिश्चन मेडिकल कॉलेज के 54 वर्षीय प्रिंसिपल डा. जयराज पांडियन कोरोना वैक्सीन की पहली डोज का इंजेक्शन लगवाते हुए।

सेशन साइट : सीएमसी अस्पताल

डाक्टर : क्रिश्चन मेडिकल कॉलेज के प्रिंसिपल डा. जयराज पांडियन

समय : दोपहर 12:30 बजे

वैक्सीन : कोविशील्ड

54 वर्षीय डा. जयराज ने कहा 'वैक्सीन की 0.5 एमएल की डोज लेने के बाद मैं सामान्य रहा। कोई रिएक्शन नहीं हुआ। आधा घंटा आब्जर्वेशन रूम में बैठा। उसके बाद दफ्तर में आकर रूटीन के काम निपटाए और फिर  अस्पताल में जाकर मरीजों को भी देखा। वैक्सीन पूरी तरह सुरक्षित है। हेल्थ केयर वर्कर अफवाहों से बचें और खुद को सुरक्षित करें।

-------------------

सेशन साइट : सिविल अस्पताल जगराओं

डाक्टर : एसएमओ डा. प्रदीप महिंदरा

समय : दोपहर 12:59

वैक्सीन : कोविशील्ड

- एसएमओ डा. प्रदीप महिंदरा ने वैक्सीन लगवाने के बाद कहा हम लोगों ने कोरोना वायरस से सबसे आगे रहकर लड़ाई लड़ी है। अब तो हमारे हाथ में वैक्सीन के रूप में हथियार भी आ गया है। हेल्थ केयर वर्करों और लोगों का उत्साह बढ़ाने के लिए सबसे पहले उन्होंने टीका लगवाया है। उसके बाद से पूरी तरह तंदरुस्त हैं। दोपहर के बाद भी दफ्तर में सामान्य दिनों की तरह ही काम किया।

-------------------

सिविल अस्पताल में डॉ हरप्रीत बैंस ने सबसे पहले वै€सीन लगवाई उनके साथ खड़े हैं केबिनेट मंत्री भारत भूषण आशु डीसी वरिंदर शर्मा पुलिस कमिश्नर राकेश अग्रवाल विधायक संजय तलवार।

सेशन साइट : सिविल अस्पताल लुधियाना

डाक्टर : टीबी रोग विशेषज्ञ डा. हरप्रीत सिंह

समय : 1:05 बजे

वैक्सीन : कोविशील्ड

- टीका लगवाने के बाद डा. हरप्रीत ने कहा 'वैक्सीन मुझे और मेरे परिवार को कोरोना वायरस से बचाएगी। मैं और मेरी पत्नी डा. अमनदीप कौर पहले पाजिटिव आ चुके हैं। वैक्सीन का कोई साइड इफेक्ट नहीं हुआ। न घबराहट हुई न दर्द। आधा घंटा निगरानी में रहने के बाद ओपीडी में जाकर सामान्य दिन की तरह मरीजों की जांच भी की।

------------------------

एसएमओ हितिंदर कौर।

विश्वास करें, सुरक्षित वैक्सीन है ...

'मैंने 1:25 बजे वैक्सीन लगवाई है। वैक्सीन कब लग गई पता ही नहीं चला। आधा घंटा इंतजार करने के दौरान कोई परेशानी नहीं हुई।

- डा. हितिंदर कौर, एसएमओ सिविल अस्पताल

--------

डा. शबनम बांसल।

मैंने 1:35 मिनट पर टीका लगवाया। कोई दिक्कत नहीं हुई। मुझे गर्व है कि पहले दिन वैक्सीन लगवाने का मौका मिला। सभी बिना डरे वैक्सीन लगवाएं।

- डा. शबनम बांसल, एसएमओ एआरटी सेंटर

---------------

 

--डा. वरूण सग्गड़, सीनियर सर्जन सिविल अस्पताल

 डा. वरूण सग्गड़, सीनियर सर्जन सिविल अस्पताल।

दोपहर 1: 29 बजे मैंने वैक्सीन लगवाई। कोई दर्द नहीं हुआ। कुछ लोग बेवजह अफवाहों से डर रहे हैं। अपने देश की वैक्सीन पर पूरा भरोसा है।

-डा. वरुण सग्गड़, सीनियर सर्जन सिविल अस्पताल

-------------

 

डा. रोहित रामपाल, स्किन स्पेशलिस्ट सिविल अस्पताल।

मुझे 1:22 मिनट पर टीका लगाया गया। 30 मिनट आब्जर्वेशन के दौरान कोई साइड इफेक्ट सामने नहीं आया। विज्ञानियों ने बड़ी मेहनत से वैक्सीन बनाई है। डरें नहीं।

- डा. रोहित रामपाल, स्किन स्पेशलिस्ट सिविल अस्पताल

-----------------

डा. अनमोल, इएनटी स्पेशलिस्ट सिविल अस्पताल।

लोग अफवाहों में फंसे। मैंने भी कोविशील्ड वैक्सीन की पहली डोज ली। कोई रिएक्शन नहीं हुआ। वैक्सीन लगवाकर अच्छा महसूस हो रहा है।

- डा. अनमोल, ईएनटी स्पेशलिस्ट सिविल अस्पताल

--------

डा.अमृत राज बहल, मेडिकल आफिसर डेंटल सिविल अस्पताल।

पहले चरण के पहले दिन वैक्सीन लगवाना गर्व की बात है। टीका लगवाने के बाद कोई परेशानी नहीं हुई। उसके बाद आम दिनों की तरह ही काम किया। यह हमारी सुरक्षा के लिए है।

- डा. अमृत राज बहल, मेडिकल आफिसर डेंटल, सिविल अस्पताल

---

 

वैक्सीन लगवाने के बाद अच्छा महसूस कर रहा हूं। टीका लगाने वाली जगह कोई दर्द नहीं हुआ। न घबराहट हुई और न किसी तरह की एलर्जी हुई।

- डा. रिपु दमन, नेत्र विशेषज्ञ, सिविल अस्पताल

---

डा. कुलवंत सिंह, सीनियर माइक्रोबायोलाजिस्ट सिविल अस्पताल

मैंने दोपहर 1:20 मिनट पर वैक्सीन की पहली डोज ली है। काफी समय से इस पल का इंतजार था। टीका लगवाने के बाद बिना किसी परेशानी के काम भी किया।

- डा. कुलवंत सिंह, सीनियर माइक्रोबायोलाजिस्ट, सिविल अस्पताल

---

- डा. रिंपल गर्ग, मेडिकल आफिसर डेंटल, सिविल अस्पताल

वैक्सीन पूरी तरह सुरक्षित है। मैंने पहले दिन टीका लगवाया है। मुझे कोई परेशानी नहीं हुई। मानकों का पालन करके वैक्सीन को स्वीकृति मिली है। शक की कोई बात नहीं है।

- डा. रिंपल गर्ग, मेडिकल आफिसर डेंटल, सिविल अस्पताल

---

- डा. जीएस ग्रेवाल, बीटीओ, सिविल अस्पताल।

वैक्सीन को लेकर भ्रांतियां फैलाई गई हैं। मैंने वैक्सीन लगवाई है। कोई दिक्कत नहीं हुई। इसके बाद दिनभर मरीजों की जांच भी की। जिसे मौका मिले वैक्सीन लगवानी चाहिए।

- डा. जीएस ग्रेवाल, बीटीओ, सिविल अस्पताल

kumbh-mela-2021

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप