संवाद सहयोगी, फगवाड़ा : कृषि कानूनों के विरोध में शिरोमणी अकाली दल प्रधान सुखबीर सिंह बादल व पूर्व मंत्री विक्रम सिंह मजीठिया की अगुआई में केंद्र सरकार के खिलाफ रोष मार्च 17 सितंबर को गुरुद्वारा रकाब गंज साहिब से संसद भवन तक निकाला जा रहा है।

पंजाब मार्कफेड के पूर्व चेयरमैन जरनैल सिंह वाहद व शिरोमणी यूथ अकाली दल के राष्ट्रीय वरिष्ठ उपाध्यक्ष रणजीत सिंह खुराना की अगुआई में बैठक के दौरान जानकारी देते हुए जरनैल सिंह वाहद ने कहा कि कृषि कानूनों के पास होने के एक साल के करीब होने व संघर्ष के दौरान 700 से किसानों की मौत होने के बावजूद केंद्र सरकार की नींद नही खुली है। अकाली दल ने किसानों के साथ हुई बैठक के बाद अपनी 100 दिन की यात्रा भी फिलहाल रद कर दी है। खुराना ने कहा कि शिअद के लिए पंजाब, पंजाबीयत तथा किसानी से बढ़ कर कोई चीज मायने नही रखती। अकाली दल ने हमेशा कुर्बानी दी है तथा आगे भी इसके लिए तैयार है। अकाली दल कृषि कानूनों के खिलाफ हमेशा खड़ा है। बैठक में निर्णय लिया गया कि फगवाड़ा से अकाली दल वर्कर रोष मार्च में भाग लेंगे। इस मौके सरुप सिंह खलवाड़ा, पवन सेठी, सन्नी वालिया, मास्टर रवेल सिंह, झिरमल सिंह भिडर, रणजीत सिंह फतेह, बलवीर सिंह गंढ़म में संबोधन किया। मीटिग में तजिदर पाल सिंह बिट्टा, गजबीर सिंह वालिया पूर्व पार्षद, प्रितपाल सिंह मंगा, मोहन सिंह वाहद, गुरमुख सिंह चाना, बहादुर सिंह संगतपुर, जगीर सिंह, गुरमीत सिंह रावलपिडी, अमरजीत सिंह ढिल्लों, प्रकाश सिंह रानीपुर, गुरमीत सिंह बढवाल, प्रदीप सिंह बसरा, कृष्ण लाल घई, रवि सिद्दु, परमिदर सिंह जंडू, रोशन सिंह ढंढोली, प्रदीप सिंह मिन्हास, अमर बसरा, इंद्रजीत सिंह बसरा, सुखदीप सिंह दीपा, हरप्रीत गिल खंगूड़ा, मनविदर सिंह कुंदी, आशु छाबड़ा, रोहित पाठक, गुरदर्शन सिंह संगतपुर, मखन सिंह, गुरप्रीत सिंह बगगा, बैवन शर्मा, इंदरदीप सिंह, प्रगट सिंह, अमृत चाना आदि शामिल थे।

Edited By: Jagran