संवाद सहयोगी, सुल्तानपुर लोधी : श्री गुरु नानक देव जी के 550 वें प्रकाश पर्व से पहले पहले पवित्र काली बेई में जा रहे दूषित पानी को रोकने के लिए पंजाब प्रदूषण कंट्रोल बोर्ड के चेयरमैन प्रो. एसएस मरवाहा व विभाग के अन्य अधिकारियों की उच्च स्तरीय बैठक आयोजित की गई। इस बैठक में उपस्थित पर्यावरण प्रेमी संत बलबीर सिह सीचेवाल ने बेई के किनारे बने 6 ट्रीटमेंट की दयनीय हालत का जिक्र करते कहा कि संगत पिछले 18 साल से बेई को कार सेवा की मदद से साफ करने में लगी हुई है लेकिन सरकारी स्तर पर होने वाले कार्यो की तरफ ध्यान नही दिया जा रहा। बैठक में फैसला किया गया कि खराब हो चुके 6 ट्रीटमेंट प्लांटों को किस तरह चलाया जा सकता है, उसके बारे दो सप्ताह में रिपोर्ट दी जाए।

संत सीचेवल ने बताया कि सुल्तानपुर लोधी के ट्रीटमेंट प्लांट से निकाली गई गार को कई साल बीत गए है। सफाई न होने के कारण पानी एकत्रित करने के लिए जगह नही होती। इसी तरह कपूरथला का 6 एमएलडी का प्लांट कई सालो से बंद पड़ा है जबकि सरकारी अधिकारी झूठी रिपोर्ट देकर इस को चलाने के दावे कर रहे है।

सुल्तानपुर लोधी में बने ट्रीटमेंट प्लांट : सीचेवाल

संत सीचेवाल ने बताया कि सुल्तानपुर लोधी में एक नया ट्रीटमेंट प्लांट बनाने की जरुरत है पर इसकी ओर कार्रवाई नही की जा रही। इस तरह ही बाकी ट्रीटमेंट प्लाटों का भी यही हाल है। उन्होंने बताया कि रवाल कलोनियों में लगने वाले ट्रीटमेंट प्लांट बनाने के लिए 5 करोड 77 लाख रुपए का प्रोजेक्ट मंजूर हुआ था। इसमें से 2 करोड की राशि दो साल से सीवरेज बोर्ड के पास आई हुई है पर यह राशि खर्च नही की जा रही। उन्होंने कहा कि बेई में गंदा पानी पाकर लोगों की धार्मिक भावनाओं के साथ खिलवाड़ किया जा रहा है।

Posted By: Jagran