हरनेक सिंह जैनपुरी, कपूरथला

जिले के चारों विधायक कांग्रेस की टिकट हासिल करने में सफल हुए हैं। कांग्रेस हाईकमान की ओर से शनिवार को 86 प्रत्याशियों की सूची में कपूरथला के विधायक राणा गुरजीत सिंह, सुल्तानपुर लोधी से नवतेज सिंह चीमा, भुलत्थ से सुखपाल सिंह खैहरा एवं फगवाड़ा से बलविदर सिंह धालीवाल तमाम अटकलों के बावजूद टिकट हासिल करने में कामयाब हुए हैं।

राणा गुरजीत सिंह कपूरथला से अभी तक पांच चुनाव जीत चुके हैं। 2002 को कांग्रेस से सियासी सफर शुरू करने वाले राणा गुरजीत सिंह ने 33715 वोट लेकर पूर्व परिवहन मंत्री रघबीर सिंह को हराया। इसके बाद हुए उप चुनाव में राणा की भाभी सुक्खी राणा ने चुनाव लड़ कर जीत हासिल की तथा 2007 में राणा गुरजीत सिंह की पत्नी राणा राजबंस कौर ने 40888 वोट हासिल कर जीत हासिल किया। 2012 में राणा गुरजीत सिंह ने 54221 वोट हासिल कर बडी जीत दर्ज की। 2017 में राणा गुरजीत सिंह ने 56378 वोट हासिल कर अपनी अजय अभियान जारी रखा। अब कांग्रेस ने फिर से राणा को पार्टी की टिकट से नवाजा है और अब राणा परिवार का यह छठा चुनाव होगा जिसे आप की मंजू राणा व अकाली बसपा के दविदर सिंह ढपई से पार पाना होगा।

उधर सुल्तानपुर लोधी के विधायक नवतेज सिंह चीमा को राणा गुरजीत सिंह के पुत्र राणा इंद्रप्रताप सिंह से चनौती मिल रही थी जिनकी तरफ से मौजूदा विधायक पर कई आरोप लगाते हुए टिकट की दावेदारी जताई जा रही थी। कांग्रेस हाईकमान ने नवतेज सिंह चीमा पर एक बार फिर से भरोसा जताते हुए उन्हें कांग्रेस पार्टी की टिकट दी है। चीमा इससे पहले दो मर्तबा शिअद की दिग्गज नेता एवं पूर्व वित्त मंत्री डा. उपिदरजीत कौर को हरा चुके है। चीमा को अब आप के सज्जन चीमा व शिअद के कैप्टन अमरिदर सिंह से मिल रही चुनौती से निपटना होगा।

उधर, भुलत्थ से कांग्रेस ने मौजूदा विधायक सुखपाल सिंह खैहरा को कांग्रेस का टिकट दिया गया है। इससे टिकट के लिए दावेदारी जता रहे सौरव खुल्लर एवं दलजीत सिंह नडाला को कुछ निराशा हाथ लगी है जबकि टिकट के एक अन्य दावेदार गोरा गिल कांग्रेस छोड़ कर कैप्टन अमरिदर सिंह के पाले में चले गए है। खैहरा को अब एसजीपीसी की पूर्व प्रधान बीबी जागीर कौर और आप के राणा रणजीत सिंह से चुनौती रहेगी।

एससी के लिए आरक्षित विधानसभा हलका फगवाड़ा से कांग्रेस आला कमान द्वारा मौजूदा विधायक बलविदर सिंह धालीवाल को कांग्रेस ने फिर से अपना उम्मीदवार बनाया है। धालीवाल का यह दूसरा चुनाव होगा जिन्होंने उप चुनाव में भाजपा को मात देकर जीत हासिल की थी। उधर फगवाड़ा से टिकट के प्रबल दावेवार माने जाते पूर्व मंत्री जोगिदर सिंह मान भी कांग्रेस पार्टी का टिकट हासिल करने के लिए पूरी जदोजहद कर रहे थे लेकिन उन्हें टिकट ना मिलने का पहले ही आभास हो गया था, जिस वजह से शुक्रवार को ही मान ने कांग्रेस को अलविदा कह कर केजरीवाल की अगुवाई में आम आदमी पार्टी ज्वाइन कर ली थी। फगवाड़ा से टिकट के दूसरे दावेदार बलबीर राजा सोढी की पत्नी को पंजाब महिला कांग्रेस की प्रधानगी देकर पहले ही कांग्रेस ने धालीवाल का रास्ता साफ कर दिया था।

Edited By: Jagran