जेएनएन, जालंधर। शिक्षा विभाग अब ज्ञान मुकाबलों के जरिए मेधावी छात्रों की परख करेगा। इन मुकाबलों में बच्चों के प्रदर्शन पर ध्यान दिया जाएगा जो बोर्ड की परीक्षाओं में मैरिट हासिल कर सकते हैं, ताकि बोर्ड में इस बार मैरिट की संख्या को बढ़ाया जा सके। इसके तहत ही शिक्षा सचिव कृष्ण कुमार ने राज्य के सभी जिलों के ब्लॉक मेंटोर के साथ एजुसेट के जरिए बैठक की। इसमें सचिव ने कहा कि गुरु नानक देव जी के 550वें प्रकाश पर्व को समर्पित ज्ञान उत्सव मुकाबले करवाए जा रहे हैं। इनके जरिए ही छात्रों में गुणात्मक प्रतिभा को प्रदर्शित करने के मौके दिए जाएंगे, जिससे ब्लॉक मेंटोर और शिक्षक छात्रों के प्रदर्शन से पहचान करेंगे।

हालांकि शिक्षक बच्चों की प्रतिभा को स्कूल समय व प्राथमिक परीक्षाओं के जरिए ही आंकलन कर लेते है। जिन बच्चों का अच्छा प्रदर्शन नहीं रहा है, उन पर तो ध्यान देना ही है, ताकि वे भी अच्छे नतीजे लेकर आएं। लेकिन मैरिट लाने योग्य बच्चों की परख पर ध्यान देना है, ताकि वे अपनी कमियों को दूर करके बोर्ड परीक्षाओं में मैरिट हासिल करने में सफल हो सकें। ज्ञान उत्सव अब हर साल नवंबर में होगा : शिक्षा सचिव कृष्ण कुमार ने बताया कि गुरु नानक देव के 550वें प्रकाश पर्व को समर्पित ज्ञान उत्सव के आयोजन 21 नवंबर से शुरू किए जा रहे हैं। यह बच्चों की बेहतरी के लिए कारगर साबित होगा। प्रत्येक वर्ष नवंबर में यह उत्सव मिडिल, हाई और सीनियर सेकेंडरी स्कूलों में करवाएं जाएंगे।

विभाग अतिरिक्त कक्षाएं लगाने वाले अध्यापकों की सूची तैयार करने के लिए विशेष सॉफ्टवेयर तैयार कर रहा है, ताकि आने वाले चार महीने में अधिक मेहनत करने के लिए अध्यापकों को प्रोत्साहित किया जा सके। अध्यापक जल्द 80 फीसद या इससे अधिक अंक पा सकने वाले बच्चों की पहचान करने में ध्यान केंद्रीत करें। इसके लिए मुख्य दफ्तर से भी अधिकारियों को भी विशेष ड्यूटियां लगाई जा रही हैं, ताकि परीक्षाओं के नतीजे को सुधारा जा सके।

हरियाणा की ताजा खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें

पंजाब की ताजा खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें 

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस

ਪੰਜਾਬੀ ਵਿਚ ਖ਼ਬਰਾਂ ਪੜ੍ਹਨ ਲਈ ਇੱਥੇ ਕਲਿੱਕ ਕਰੋ!