जागरण संवाददाता, जालंधर। जालंधर में दिसंबर माह की शुरुआत के साथ ही मौसम का मिजाज भी बदलने लगा है। न्यूनतम तापमान में हो रही गिरावट के साथ अब अधिकतम तापमान का पारा भी गिरने से ठिठुरन बढ़ने लगी है। सीजन में पहली बार दिन के समय आसमान में बादल छाए रहने के साथ अधिकतम तापमान में चार डिग्री सेल्सियस तक की गिरावट दर्ज की गई। वीरवार को अधिकतम तापमान 20 डिग्री सेल्सियस तथा न्यूनतम 9 डिग्री सेल्सियस रहने की संभावना है।

वीरवार को सुबह शहर के बाहरी इलाकों में धुंध की वजह से वाहन सड़कों पर रेंगते देखें वाहनों के दिन में लाइटें चल रही थी और रफ्तार काफी धीमी थी । पूरा दिन आसमान में बादल छाए रहने की संभावना है। इसका असर कारोबार पर भी पड़ेगा। बाजारों में ग्राहक की  रौनक भी प्रभावित होगी। सप्ताह के अंत में आसमान में बादल छाने के साथ बारिश होने की संभावना है।

वहीं बाजार में सर्दी बढ़ने के साथ गर्म कपड़ों का बाजार भी गर्माने लगा है। माहिर डा. दलजीत सिंह का मानना है कि पहाड़ों में बर्फबारी का असर मैदानी में इलाकों में तेजी से बढ़ने लगा है। आने वाले दिनोें में अधिकतम और न्यूनतम तापमान में अंतर कम होने से ठंड बढ़ेगी। सप्ताह के अंत में बादल छाने के साथ शीत लहर चलेगी और बारिश होने की भी संभावना है। रविवार तक बादल छाए रहने के आसार है।

सिविल अस्पताल के डा. भूपिंदर सिंह का कहना है कि पर्यावरण में प्रदूषित कण होने की वजह से खांसी, बुखार और एलर्जी केस के बढ़ेंगे। इनमें कमजोर प्रतिरोधक शक्ति कमजोर होने की वजह से बच्चे व बुजुर्ग इसकी चपेट में आ जाते है। बारिश होने से प्रदूषित कण धुल जाएंगे और बीमारियों से राहत मिलने की संभावना है। फिलहाल लोगों को सर्दी बचाव करने के साथ साथ दिन में कम से कम दो बार गुनगुने पानी का सेवन करना चाहिए.

Edited By: Vinay Kumar