जागरण संवाददाता, जालंधर

थाना नवी बारादरी के अंतर्गत आते पुडा कांप्लेक्स में बुधवार शाम छह बजे के करीब शटरिंग करते समय करंट लगने से उत्तर प्रदेश के बहराइच के रहने वाले दो मजदूरों की मौत हो गई। मौके पर पहुंचे पावरकाम कर्मियों ने बिजली की सप्लाई काट कर शवों को बाहर निकाला। पुलिस ने मामले की जांच शुरू करते हुए पीड़ितों के स्वजनों के बयान दर्ज कर लिए हैं। मृतकों की शिनाख्त यूपी के बहराइच जिले के खौरी घाट बढ़नापुर के रहने वाले मंशाराम और बहराइच के बौडी राजा निवासी कन्हैया लाल के रूप में हुई है।

मंशाराम और कन्हैया लाल शटरिग का काम करते थे। दोनों बुधवार शाम पुडा कांप्लेक्स की एक बिल्डिंग में शटरिग का काम करने के लिए अपने साथी के साथ आए थे। इस दौरान लोहे की प्लेट में करंट आने से दोनों युवक उसकी चपेट में आ गए। मामले की प्रारंभिक जांच में सामने आया है कि शटरिग के काम के दौरान श्रमिकों ने पाइप की फिटिग बिजली की तार के बीच में ही कर दी थी। इसके बाद धीरे-धीरे तार घिसती चलती गई और मंशाराम को करंट लग गया। यह देख कन्हैया ने उसे बचाने की कोशिश की, लेकिन वह भी चपेट में आ गया। मौके पर मौजूद मृतकों का तीसरा साथी उत्तर प्रदेश के कानपुर निवासी मोनू बाल-बाल बच गया। मोनू ने बीएसएफ चौक के पास निर्माणाधीन बिल्डिंग में जाकर घटना की सूचना ठेकेदार और कन्हैया के स्वजनों को दी। सात महीने से काम कर रहा था कन्हैया

मोनू ने बताया कि कन्हैया बीते सात महीने से अपने साले और भाई के साथ बीएसएफ चौक के पास एक निर्माणाधीन बिल्डिंग में काम कर रहा था। बुधवार को उसके ठेकेदार ने कन्हैया और मोनू को एक अन्य श्रमिक मंशाराम के साथ पुडा कांप्लेक्स में शटरिग का काम करने के लिए भेजा था। मंशाराम को ठेकेदार पहली बार काम के लिए लेकर आया था। वह दोनों भी मंशाराम को नहीं जानते थे। चप्पलें पहनी थी, लेकिन पैर गीले होने के चलते आए चपेट में

जांच के दौरान यह भी सामने आया है कि मंशाराम और कन्हैया लाल ने चप्पलें तो पहनी हुई थीं, लेकिन आसपास लगे पानी और कीचड़ के चलते उनके पांव गीले थे। इसके चलते दोनों को करंट लग गया। घर पर कन्हैया का इंतजार कर रहे दो मासूम

कन्हैया लाल के साले ने बताया कि कन्हैया की शादी दस साल पहले हुई थी। इससे कन्हैया को एक आठ साल का बेटा और एक चार साल की बेटी है। दोनों ही घर पर अपने पिता का इंतजार कर रहे हैं। डेढ़ घंटे बाद पहुंची एंबुलेंस

घटना की सूचना मिलने के बाद करीब सात बजे नवी बारादरी के थाना प्रभारी रविदर कुमार अपनी टीम के साथ मौके पर पहुंच गए। वहीं डेढ़ घंटे बाद करीब 8:30 बजे एंबुलेंस के पहुंचने पर शवों को सिविल अस्पताल भिजवाया जा सका। थाना प्रभारी रविद्र कुमार का कहना है कि मृतक मंशाराम के स्वजनों को सूचित करने के लिए यूपी पुलिस से संपर्क किया जा रहा है।

Edited By: Jagran