जालंधर, जेएनएन।  शनिवार रात को तीन पुलिस मुलाजिमों ने राम नगर में रहने वाले एक व्यक्ति से जबरन साढ़े आठ हजार रुपये वसूल लिए और उसके साथ बदसुलूकी भी की। मामला पूर्व मुख्य संसदीय सचिव (सीपीएस) केडी भंडारी के पास पहुंचा तो उन्होंने एडीसीपी सुडरविली से शिकायत की, जिन्होंने जांच के बाद तीनों पुलिस मुलाजिमों को सस्पेंड कर दिया है।

राम नगर में रहने वाले कुलदीप सिंह ने बताया कि वह घर पर ही उबले अंडे बेचता है। क‌र्फ्यू के दौरान भी वह घर पर ही काम कर रहा था। शनिवार रात को कुलदीप सिंह के घर पर थाना एक का मुलाजिम दिलबाग सिंह अपने दो साथियों के साथ आया और धमकाने के लगा कि क‌र्फ्यू के दौरान काम करने पर उसके खिलाफ मामला दर्ज किया जाएगा। उसने कहा कि वह काम बंद कर देगा तो पुलिस ने उसे छोड़ने के लिए साढ़े आठ हजार रुपये की मांग कर डाली। कुलदीप ने किसी तरह पैसों का जुगाड़ करके उन्हें पैसे दे दिए।

पुलिस के जाने के बाद कुलदीप ने मोहल्ले के प्रधान से बात की तो मामला केडी भंडारी तक पहुंचा। उन्होंने तुरंत थाना एक के प्रभारी राजेश शर्मा को फोन किया तो उन्होंने एएसआइ नरिंदर सिंह को मौके पर भेजा। जांच में एएसआइ नरिंदर सिंह तीनों मुलाजिमों को गलत पाया और रिपोर्ट थाना प्रभारी को दे दी। थाना प्रभारी के कहने पर तीनों मुलाजिमों ने घर जाकर कुलदीप के पैसे वापस किए और माफी मांगी।

तीनों के खिलाफ विभागीय जांच के आदेशः एडीसीपी सुडरविली

इसके बाद केडी भंडारी ने पुलिस कर्मियों की इस ज्यादती के बारे में एडीसीपी सुडरविली से शिकायत की। उन्होंने तीनों मुलाजिमों को सस्पेंड कर विभागीय जांच के आदेश जारी कर दिए। एडीसीपी सुडरविली ने बताया कि थाने के मुलाजिमों ने अंडा विक्रेता के साथ गलत व्यवहार किया था। तीनों को सस्पेंड कर दिया गया है और विभागीय जांच के आदेश दिए गए हैं।

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस

ਪੰਜਾਬੀ ਵਿਚ ਖ਼ਬਰਾਂ ਪੜ੍ਹਨ ਲਈ ਇੱਥੇ ਕਲਿੱਕ ਕਰੋ!