जालंधर, [सुक्रांत]। आदमपुर में यूको बैंक के गार्ड की हत्या कर छह लाख रुपये लूटने के मामले में रोज नए राज खुल रहे हैं। जांच में सामने आया है कि बैंक लूट में चार लोग नहीं बल्कि ज्यादा लोग शामिल थे। चार आरोपितों की तो पहचान हो गई है, लेकिन उनका पांचवां साथी अभी पुलिस की नजर से दूर है और लूट के पैसे भी उसी के पास रखे होने की संभावना जताई जा रही है। बताया जा रहा है कि वह जालंधर में ही छिपा हो सकता है। सत्ता, जीता, सुक्खा और गिंदा ने यूको बैंक लूटा था। लूट के बाद बाहर मौजूद उनके साथी सक्रिय हो गए थे। बैंक से पैसे लेकर सभी आरोपित रास्ते में अपने साथियों के पास रुके थे। वहीं पर जीता को 45 हजार रुपये देकर अलग रास्ते से भेजा गया।

वहीं होशियारपुर में गिरफ्तार हुए आरोपित सुक्खा के पास से भी जो 35 हजार रुपये मिले थे, वो भी जालंधर यूको बैंक लूट के थे। उसे भी पैसे देकर अलग रास्ते से भेज दिया गया था। सत्ता और गिंदा भी कुछ पैसे लेकर अलग रास्ते पर निकल गए थे। बाकी सारे पैसे उस साथी के पास रखे गए जो चारों आरोपितों को बीच रास्ते में मिला था। पुलिस इस एंगल पर गंभीरता से जांच कर रही है और सत्ता की तलाश में लगातार छापामारी कर रही है। वहीं अब जीता की प्रापर्टी की भी पुलिस ने जांच शुरू कार दी है।

एसएसपी संदीप गर्ग ने बताया कि इस बात से इन्कार नहीं किया जा सकता कि बैंक लूट में चार से ज्यादा आरोपित शामिल थे। लूट के बाद जो पैसे मिले हैं, उससे पता चलता है कि सत्ता ने साथियों को फरार करवाने के लिए थोड़े-थोड़े पैसे दिए थे। अब बाकी के सारे पैसे वो खुद ले गया या रास्ते में अपने किसी और साथी को दे गया, यह जांच का विषय है। इस बात से भी इन्कार नहीं किया जा सकता कि सारे पैसे रखने वाला आरोपित जालंधर में ही कहीं छिपा हो। सत्ता के गिरफ्तार होने के बाद ही यह सारी बातें साफ हो सकती हैं।

कई सालों से इकट्ठे वारदात कर रहे थे सत्ता और जीता

जालंधर पुलिस की गिरफ्त में आए जीता और सत्ता कई सालों से इकट्ठे थे। पुलिस रिमांड के दौरान सामने आया कि जीता ने सत्ता की कई आपराधिक वारदात में साथ दिया है। बैंक लूट के अलावा मारपीट, लूटपाट जैसे घटनाएं दोनों मिल कर करते थे। सत्ता के और साथी भी हैं जो अलग-अलग जगह पर लूट करते थे, लेकिन उनमें सत्ता शामिल नहीं होता था। हालांकि उसके इशारे पर ही सारी वारदात होती थी।

लूट के बाद रास्ते में रुके तो बदले थे कपड़े और हुलिए

पुलिस की जांच में यह भी सामने आया है कि सत्ता और उसके साथियों ने लूट के बाद रास्ते में कपड़े और हुलिया बदला था। वारदात के समय सभी ने पगड़ी पहन रखी थी, लेकिन उनके फरार होने के रास्ते में पुलिस ने जो सीसीटीवी फुटेज निकलवाए हैं, उनमें कैद हुए दो आरोपित बिना पगड़ी और मास्क के थे। वहीं एक आरोपित के कपड़े भी बदले हुए थे। सभी को मालूम था कि पुलिस ने लूट के बाद वायरलेस से हर नाके पर उनका हुलिया बता दिया होगा, जिसके चलते हुलिया बदल लेने से उनकी पहचान करना पुलिस के लिए मुश्किल हो जाएगा।

Indian T20 League

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप

kumbh-mela-2021

ਪੰਜਾਬੀ ਵਿਚ ਖ਼ਬਰਾਂ ਪੜ੍ਹਨ ਲਈ ਇੱਥੇ ਕਲਿੱਕ ਕਰੋ!