जालंधर, जेएनएन। पराली को आग लगाने और दीवाली की रात चले पटाखों के धुएं के कारण शह स्मॉग की चपेट में है। इस कारण लोगों को भारी परेशानी हो रही है। आम लोगों को आंखों में जलन और एलर्जी की समस्या से जूझना पड़ रहा है। उधर, मौसम विभाग के अनुसार अभी बारिश होने का कई अनुमान नहीं है। वहीं एयर क्वालिटी इंडेक्स का स्तर अभी भी सेहत के लिए नुकसानदायक है। बारिश होने पर राहत की उम्मीद की जा सकती है।

शुक्रवार को सुबह उठते ही लोगों को स्मॉग की समस्या से जूझना पड़ा। बच्चों को स्कूल छोड़ने के लिए जाने वाले लोगों को स्मॉग की वजह से परेशानियों से जूझना पड़ा। बच्चों को दोपहिया वाहन पर स्कूल छोड़ने गए राहुल का कहना है कि सुबह मौसम में ठंडक थी और स्मॉग थी। इसके बावजूद आंखों में जलन और गले में एलर्जी की वजह से खारिश महसूस होने लगी है। उधर, रात को काम से घर लौट रहे सर्बजीत का कहना था कि शहर के मुकाबले बस्ती बावा खेल इलाके में स्मॉग का असर ज्यादा था। रात को स्मॉग की वजह से विजिबिलटी भी कम थी।

इधर, प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड का दावा- एयर क्वालिटी इंडेक्स में हुआ सुधार

उधर, पंजाब प्रदूषण कंट्रोल बोर्ड के एक्सईएन अरुण कक्कड़ का कहना है कि पिछले दो दिन से एयर क्वालिटी इंडेक्स में सुधार हो रहा है। पराली जलाने के मामले भी कम आ रहे हैं। वीरवार को एयर क्वालिटी इंडेक्स 185 तक पहुंच गया है। इसका सेहत पर खास प्रभाव नहीं पड़ता है। उन्होंने कहा मौसम में ठंडक की वजह से फॉग का असर दिखने लगा है।

 

 

 

 

हरियाणा की ताजा खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें

पंजाब की ताजा खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें

 

Posted By: Pankaj Dwivedi

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस

ਪੰਜਾਬੀ ਵਿਚ ਖ਼ਬਰਾਂ ਪੜ੍ਹਨ ਲਈ ਇੱਥੇ ਕਲਿੱਕ ਕਰੋ!