अटारी (अमृतसर), जागरण संवाददाता। Retreat Ceremony at Attari Wagah Border:  लंबे समय तक बंद रहने के बाद भारत - पाकिस्‍तान के अटारी वाघा बार्डर पर नियमित बीटिंग रिट्रीट सेरेमनी शुकवार शाम को फिर से शुरू हुई। देश-विदेश से अमृतसर आने वाले पर्यटकों को अटारी सीमा पर होने वाली बीट द रिट्रीट सेरेमनी का बेसब्री से इंतजार था। 18 माह यानी 559 दिन बाद रिट्रीट सेरेमनी फिर से शुरू हुई  तो अटारी वाघा बार्डर एक बार फिर से 'वंदेमातरम' और 'भारत माता की जय' के घोष से गूंज उठा।

शाम साढ़े पांच बजे शुरू होगी रिट्रीट सेरेमनी, अभी रोज 300 दर्शकों ही देख सकेंगे

कोराेना के कारण अटारी बार्डर पर नियमित रिट्रीट सेरेमनी नहीं हो रही थी। गणतंत्र दिवस और स्‍वतंत्रतरा दिवस के अवसराें पर ही यहां रिट्रीट सेरेमनी का आयोजन हो रहा था। रिट्रीट सेरेमनी देखने पहुंचे पर्यटकों ने तिरंगा हाथ में लेकर उत्साह के साथ जवानों का मनोबल बढ़ाया। कोविड की वजह से फिलहाल अभी 300 दर्शकों के लिए ही रिट्रीट सेरेमनी देखने की व्यवस्था रहेगी। रिट्रीट सेरेमनी का समय शाम साढ़े पांच बजे का होगा।

अटारी वाघा बार्डर पर शु‍क्रवार शाम रिट्रीट सेरेमनी का नजारा।

सात मार्च 2020 को कोरोना के कारण पर्यटकों के लिए बंद कर दी गई थी रिट्रीट सेरेमनी

बता दें कि कोरोना के कारण सात मार्च 2020 से रिट्रीट सेरेमनी में आम लोगों के लिए एंट्री बंद कर दी गई थी। इससे पूर्व रिट्रीट सेरेमनी देखने के लिए हर रोज 20 से 25 हजार लोग पहुंचते थे। डिप्टी कमिश्नर गुरप्रीत सिंह खैहरा ने कहा कि कोविड गाइडलाइन के मुताबिक खुले में 300 लोगों के एकत्र करने का प्रविधान है। इसका पालन करते हुए ही बीएसएफ को अपने स्तर पर अगर रिट्रीट सेरेमनी करने के लिए कहा गया है। अब 25 मिनट की रिट्रीट सेरेमनी के लिए गाइडलाइंस के मुताबिक शारीरिक दूरी का पालन करते हुए पर्यटक दर्शन दीर्घा में बैठेंगे।

 

अटारी वाघा बार्डर पर पहुंचे पर्यटक खुशी से झूमते हुए। (जागरण)

खासा हेडक्वार्टर के गेट पर करवाना होगा रजिस्ट्रेशन

बीएसएफ ने खासा हेडक्वार्टर के गेट नंबर तीन के बाहर एक बोर्ड पर लैंडलाइन नंबर डिस्प्ले किया है ताकि पर्यटक उस पर रजिस्ट्रेशन करवा सकें। खासा हेडक्वार्टर के डीआइजी भूपिंदर सिंह ने बताया कि शुक्रवार से 300 पर्यटकों को अटारी सीमा पर रिट्रीट सेरेमनी देखने की इजाजत दी गई है। भविष्य में अगर सरकार पर्यटकों की संख्या बढ़ाने के आदेश करती है, तो उसके मुताबिक ज्वाइंट चेक पोस्ट (जेसीपी) अटारी पर प्रबंध किए जाएंगे।

 

Edited By: Sunil Kumar Jha