जालंधर, जेएनएन। वाटर लॉगिंग की समस्या सिर्फ शहर में ही नहीं, बल्कि जिला प्रशासकीय कांप्लेक्स में भी है। शुक्रवार सुबह हुई मूसलधार बारिश के बाद यहां पानी भर गया व लोगों की आवाजाही भी बंद सी हो गई। परिसर में वाटर लॉगिंग की वजह से लोगों को तो मुश्किल हुईं। साथ ही, मुलाजिमों को भी भारी परेशानी का सामना करना पड़ा।

पुराने कुएं सफाई के अभाव में बंद

बारिश के पानी को सीधे धरती के तल तक पहुंचाने के लिए जिला प्रशासकीय परिसर में रेन वाटर हार्वेस्टिंग सिस्टम लगाया गया है, अभी तक इसके अपेक्षाकृत नतीजे नहीं आए हैं। परिसर में नए कुएं खुदवाए जा रहे हैं, जिनका काम अभी कंप्लीट नहीं हो पाया है। हालांकि एक दशक पहले इसी परिसर में बनवाए गए कुएं सफाई के अभाव में अपना काम करने में असमर्थ हैं। पुराने कुओं के आसपास कूड़ा गंदगी एवं मिट्टी जमा है, पानी को नीचे जाने से रोक रही है।

जलमग्न रही सड़कें

जिला प्रशासकीय परिसर लगभग सारा दिन ही बारिश के पानी से घिरा रहा। डीसी समेत अन्य अधिकारियों के लिए बनाए गए वीआईपी गेट के सामने से निकलती मास्टर तारा सिंह नगर की सड़क देर शाम तक पानी में डूबी रहीं। यही हाल टेलीफोन एक्सचेंज के सामने भी रहा। पब्लिक की एंट्री के लिए गेट नंबर 4 भी पानी से लबालब नजर आया और उसके सामने का रोड भी पानी में डूबा रहा।

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप

ਪੰਜਾਬੀ ਵਿਚ ਖ਼ਬਰਾਂ ਪੜ੍ਹਨ ਲਈ ਇੱਥੇ ਕਲਿੱਕ ਕਰੋ!