जागरण टीम, जालंधर। कोरोना की तीसरी लहर में पहली बार एक दिन में कोरोना को मात देने वालों की संख्या संक्रमण के नए मामलों के मुकाबले ज्यादा रही। यह राहत की बात जरूर है लेकिन कोरोना का खतरा अभी टला नहीं हैं। राज्य में रविवार 13.28 प्रतिशत संक्रमण दर के साथ 5664 नए मरीज मिले। 7660 ने कोरोना को हरा दिया। सक्रिय मामलों की संख्या कम होकर 46472 रह गई है लेकिन चिंता का विषय यह है कि इनमें से 1130 मरीज आक्सीजन व 109 मरीज वेंटीलेटर सपोर्ट पर हैं, जबकि 326 मरीज लेवल-3 बेड पर कोरोना के साथ लड़ाई लड़ रहे हैं।

पिछले 24 घंटे के दौरान राज्य के 15 जिलों में 30 कोरोना मरीजों की मौत भी हुई। इनमें से लुधियाना में सर्वाधिक सात, जालंधर में पांच, पठानकोट व मोहाली में तीन-तीन, होशियारपुर में दो और अमृतसर, बरनाला, बठिंडा, फरीदकोट, फिरोजपुर, गुरदासपुर, मुक्तसर, पटियाला, संगरूर व तरनतारन में एक-एक कोरोना मरीज ने दम तोड़ दिया। मोहाली में सबसे ज्यादा 1084, लुधियाना में 836, जालंधर में 703, होशियारपुर में 518 और अमृतसर में 401 नए केस मिले।

जालंधर में 735 पाजिटिव, 5 की मौत

रविवार को जिले में कोरोना के 1015 मरीज ठीक होकर घर लौटे। रविवार को जिले में 735 मरीज कोरोना संक्रमित पाए गए, जबकि पांच लोगों की मौत हो गई। रिपोर्ट के मुताबिक 20 बच्चे व चार डाक्टर भी कोरोना की गिरफ्त में आए हैं। कुल मरीजों में 55 दूसरे जिलों के है। सिविल सर्जन डा. रणजीत सिंह ने कहा कि लोगों को कोरोना से बचाव के लिए भीड़भाड़ वाले स्थानों पर जाने से परहेज करना चाहिए। अगर जाना भी पड़े तो मास्क डालकर जाना चाहिए और दो मीटर की शारीरिक दूरी का ख्याल रखना चाहिए। जिले में 2590 लोग विदेश से आ चुके हैं।

यह भी पढ़ें - Jalandhar Weather Update: जालंधर में बारिश के बाद बढ़ी ठिठुरन, बाजाराें में चहल-पहल हुई कम

Edited By: Pankaj Dwivedi