अमृतसर जागरण, संवाददाता। ड्रग्स केस में फंसे शिरोमणि अकाली दल के नेता बिक्रम सिंह मजीठिया ने शुक्रवार को मजीठा विधानसभा क्षेत्र से अपना नामांकन पत्र दाखिल कर दिया। वह इसी विधानसभा क्षेत्र से निवर्तमान विधायक हैं। उन्होंने मजीठा एसडीएम कार्यालय में दस्तावेज दाखिल किए।

पूर्व कैबिनेट मंत्री बिक्रम सिंह मजीठिया ने अलका पूर्वी से अपना नामांकन दाखिल करवाया। रिटर्निंग अधिकारी आर्शदीप सिंह लुबाना को उन्होंने अपना नामांकन दिया। उनका कवरिंग उम्मीदवार गुरप्रीत सिंह रंधावा है। अपना नामांकन दाखिल करवाने से पहले लघु सचिवालय के बाहर उन्होंने अपने वर्करों को कोई भी कानून ना तोड़ने की अपील की। उन्होंने कहा कि हल्का मजीठा के लोगों ने उन्हें बहुत प्यार दिया है और हल्का पूर्वी के लोग भी उन्हें इसी तरह से प्यार देंगे।

कांग्रेस ने साजिश के तहत एफआईआर करवाई

इसके बाद मीडियाकर्मियों से बातचीत में बिक्रम ने कहा कि सत्ताधारी कांग्रेस उन्हें चुनाव प्रक्रिया से दूर रखना चाहती है। इसीलिए उनके खिलाफ साजिश के तहत एफआईआर दर्ज की गई। उन पर दायर केस में एक धारा 35 भी शामिल की है, जिसमें कहीं से भी जमानत का प्रविधान नहीं है। बावजूद इसके वाहेगुरु के आशीर्वाद और लोगों की अरदास के कारण अदालत में उनकी सुनवाई हुई और 30 जनवरी तक उन्हें नामांकन पत्र दाखिल करवाने और सुप्रीम कोर्ट में जाने का समय दिया गया। बता दें कि 26 जनवरी को शिअद प्रधान सुखबीर बादल ने घोषणा की थी कि बिक्रम सिंह मजीठिया अमृतसर पूर्वी विधानसभा सीट से पंजाब कांग्रेस प्रधान नवजोत सिंह सिद्धू के विरुद्ध भी चुनवा लड़ेंगे। 

बिक्रम ने कहा कि नवजोत सिंह सिद्धू को सांसद और उनकी पत्नी को विधायक बनाने के लिए शिरोमणि अकाली दल ने दिन-रात एक दिया था। हमेशा ही सिद्धू मजीठा एरिया से बढ़े अंतर से जीते। साजिश के तहत वह उन्हें झूठे केस में फंसा रहे हैं। बिक्रम ने कहा कि उनके घर में पुलिस और सुरक्षा एजेंसियों की छापामारी भी उन्हें और उनके परिवार को डराने के लिए की गई है। इसकी शिकायत उन्होंने पंजाब चुनाव कमीशन से की है। उन्होंने कहा कि यह स्पष्ट किया जाए कि मेरे घर में छापामारी सिद्धू, सीएम चन्नी या डिप्टी सीएम सुखजिंदर रंधावा में से किसके आदेशों पर हुई है।

जमानत मिली तो सिद्धू को कड़ी टक्कर दूंगा

मजीठिया ने कहा कि अगर उन्हें जमानत मिल जाती है तो वह नवजोत सिंह सिद्धू को चुनाव में कड़ी टक्कर देंगे। अगर जमानत नहीं मिलती है तो आप लोग मेरे चुनाव की कमान मजीठा विधानसभा क्षेत्र में संभालें। अमृतसर पूर्वी विधानसभा के वर्कर वहां की कमान संभालेंगे। 

Edited By: Pankaj Dwivedi