जागरण संवाददाता, जालंधर। शहर में कूड़े की समस्या का हल नजर नहीं आ रहा। स्वच्छ भारत मिशन के तहत दो अक्टूबर तक नगर निगम को शत प्रतिशत सेग्रीगेशन के टारगेट को पूरा करना है लेकिन संभव नहीं लग रहा। नगर निगम का दावा है कि 40 प्रतिशत इलाकों में कूड़े की घरों में ही छंटाई का काम शुरू हो गया। नगर निगम का यह आंकड़ा भी हवा-हवाई ही लग रहा है। कूड़े की समस्या अब विकराल हो गई है। इस मुद्दे पर मेयर जगदीश राजा को न सिर्फ विपक्षी पार्टियां घेरने में लगी हैं वहीं उन्हें अपनी ही पार्टी के पार्षदों के साथ-साथ विधायकों के विरोध का भी सामना करना पड़ा रहा है। बलराज ठाकुर, राजीव ओमकार टिक्का, रोहन सहगल तो खुल कर सामने आ गए हैं। विधायक परगट सिंह और विधायक सुशील रिंकू भी इसके खिलाफ लगने वाले धरनों के समर्थन में हैं। अकाली-भाजपा नेता भी विरोध दर्ज करा चुके हैं और बड़ी रैली की घोषणा कर चुके हैं।

कूड़ा वरियाणा डंप तक पहुंचाने में आ रही है मुश्किल
नगर निगम के पास 80 वार्डों में घरों से कूड़ा उठाने के लिए करीब 600 रैग पिकर्स हैं। यह 90 प्रतिशत एरिया कवर कर रहे हैं। घरों से कूड़ा सेकंडरी डंप पर आता है जहां से वरियाणा डंप पर भेजा जाता है। शहर में सेकंडरी डंप कम किए गए है। एक ही डंप पर कई वार्डों का कूड़ा इकट्ठा होने से कई बार हालात खराब हो जाते हैं। प्रताप बाग, मॉडल टाउन, माडल हाउस, साईदास स्कूल, नकोदर रोड के डंप पर कई वार्डों का कूड़ा आ रहा है। यहां से कूड़ा वरियाणा डंप तक पहुंचाने में मुश्किल आ रही है। इसके हल के तौर पर अब नगर निगम ने पिट्स बनाने का फैसला लिया है। नंगल शामा में इसका विरोध हो गया है। मेयर से लेकर पार्षद और अफसर तक ग्राउंड लेवल पर काम नहीं कर रहे हैं जिस कारण कोई भी योजना सिरे नहीं चढ़ रही।

गुरु नानक पुरा : बिना मंजूरी सड़क पर कूड़े का डंप बनाने के विरोध में लोगों ने करीब 15 दिन तक धरना दिया। लोगों के समर्थन में न तो विधायक आए और न ही पार्षद ने मदद की। नगर निगम के अफसर भी राजनीतिक दबाव में रहे लेकिन पब्लिक नहीं मानी और डंप खत्म करवा दिया। साईदास स्कूल : कई वार्डों का कूड़ा शहर के जाने-माने स्कूल की दीवार के साथ लग रहा है। डंप के कारण स्कूल को खिड़कियां बंद करवानी पड़ी हैं। कई बार धरना लगाया गया लेकिन डंप खत्म नहीं हो पा रहा। एनजीटी के आदेशों के मुताबिक स्कूल के पास कूड़े का डंप नहीं हो सकता।

माडल हाउस : श्री लक्ष्मी नारायण मंदिर के सामने पार्क के साथ कूड़े का डंप फिर शुरू हो गया है। एक दिन पहले पार्षद राजीव टिक्का की धरने की चेतावनी के बाद कूड़ा उठाया गया। इलाके से पार्षद रही अमनजीत कौर मेजर ने डंप को पक्के तौर पर खत्म करवाया था लेकिन अब फिर कूड़ा आने लगा है।

120 फुटी रोड : पूर्व सीनियर डिप्टी मेयर कमलजीत ¨सह भाटिया ने एक दिन पहले डंप के मुद्दे पर धरना दिया है। 200 साल पहले यह सड़क छप्पड़ और डंप के रूप में पहचान रखती थी और अब फिर हालात वैसे ही बन रहे हैं। कूड़े और मिट्टी के कारण बरसाती पानी की निकासी में 20 घंटे लग जाते हैं।

माडल टाउन श्मशानघाट : पार्षद बलराज ठाकुर ने 10 दिन पहले धरना दिया। विधायक परगट सिंह ने भी समर्थन दिया। 11 वार्डों का कूड़ा डंप पर गिर रहा है। नगर निगम 11 वार्डों के लिए 3 ज्वाइंट डंप की जगह तलाश रहा है और उसके बाद ही यह डंप खत्म हो पाएगा।

रामामंडी फ्लाईओवर : रामामंडी फ्लाईओवर पर कूड़े का डंप पहले तो नगर निगम की कृपा से ही लगता था। विरोध के बाद खत्म किया लेकिन नया इंतजाम न होने के कारण अब दोबारा फ्लाईओवर पर कूड़ा इकट्ठा हो रहा है।

मेयर के खिलाफ धरना, कई इलाकों के लोग भड़के, इस्तीफा मांगा
जालंधर। भाजपा नेता किशन लाल शर्मा के नेतृत्व में विवेक नगर, अमरीक नगर, उपकार नगर, गांधी नगर के लोगों ने मेयर जगदीश राजा के खिलाफ धरना दिया और मेयर से इस्तीफे की मांग की। किशन लाल शर्मा और भाजपा मंडल अध्यक्ष विनीत शर्मा ने इन इलाकों में लोगों को गंदगी के कारण बीमार पाया तो भड़क गए और लोगों के साथ प्रदर्शन किया। एरिया के लोग गुरु गोविंद सिंह एवेन्यू में लगे कूड़े के ढेर के पास इकट्ठे हुए और नगर निगम के खिलाफ विरोध प्रदर्शन किया। किशनलाल शर्मा ने कहा कि जगह जगह पर गंदगी के ढेर लगे हुए हैं, सीवरेज जाम है, पीने को साफ पानी नहीं मिल रहा है लेकिन मेयर ने अब तक कोई वैकल्पिक व्यवस्था नहीं की।

 

पंजाब की ताजा खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें

हरियाणा की ताजा खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें

 

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस

ਪੰਜਾਬੀ ਵਿਚ ਖ਼ਬਰਾਂ ਪੜ੍ਹਨ ਲਈ ਇੱਥੇ ਕਲਿੱਕ ਕਰੋ!