जालंधर, जेएनएन। थाना डिवीजन नंबर दो में तैनात एक हेड कांस्टेबल ने अजीबोगरीब चालान काट दिया है। हेड कांस्टेबल कुलदीप सिंह ने बिना ड्राइविंग लाइसेंस के छोटा हाथी चालक का चालान काटा और बदले में उसका ड्राइविंग लाइसेंस ही जब्त कर लिया। चालान काटने की रसीद में भी यह दोनों बातें दर्ज हैं। हेड कांस्टेबल के इस कारनामे से छोटा हाथी चालक परेशान है क्योंकि बिना डीएल ड्राइविंग के चालान का आरटीए दफ्तर पांच हजार रुपये का जुर्माना मांगा जा रहा है। उसकी न तो आरटीए दफ्तर में कोई सुनवाई हो रही है और न ही संबंधित थाने में।

लम्मा पिंड चौक के पास हरदयाल नगर में रहने वाले जयनारायण प्रसाद ने बताया कि दो जनवरी को वह अपने टैंपो से पटेल चौक से गुजर रहा था। वहां थाना डिवीजन नंबर दो की पुलिस का नाका लगा था। पुलिस ने उसे रोका और दस्तावेज चेक किए। उसके पास आरसी, ड्राइविंग लाइसेंस, पॉल्यूशन सर्टिफिकेट व इंश्योरेंस समेत सभी कागजात थे। इसके बावजूद पुलिस कर्मी ने उनका ड्राइविंग लाइसेंस अपने पास रख लिया और चालान काट दिया। ज्यादा पढ़ा लिखा न होने के कारण वह रसीद को ठीक से पढ़ भी नहीं सका। इस दौरान उसे गांव जाना पड़ गया।

वहां से लौटकर जब वह आरटीए दफ्तर पहुंचा तो वहां क्लर्क ने कहा कि बिना डीएल के गाड़ी चलाने का वह पांच हजार रुपये जुर्माना भरे। यह सुनकर उसने क्लर्क से कहा कि उस दिन पुलिस ने उसका ड्राइविंग लाइसेंस ही अपने पास रखा था, फिर बिना डीएल गाड़ी का चालान कैसे हो गया। क्लर्क ने उसे दो-टूक कहा कि उसे पांच हजार रुपये तो भरने ही होंगे, नहीं तो उसका डीएल नहीं दिया जाएगा। इसके बाद वह थाना डिवीजन नंबर दो भी गया लेकिन वहां पर भी उसकी कोई सुनवाई नहीं हुई। अब उसे समझ नहीं आ रहा कि वह अब कहां जाकर फरियाद करे।

हेड कांस्टेबल की सफाई- मैंने चालान नहीं काटा

हेड कांस्टेबल कुलदीप सिंह ने पहले तो चालान काटने से ही इनकार कर दिया। जब उन्हें व्हाट्सएप पर कॉपी भेजी गई तो पहले उन्होंने कहा कि शायद आरसी जब्त की होगी और गलती से डीएल लिखा गया। फिर कहा कि शायद आरसी न होने की वजह से चालान काटा होगा और चालान में डीएल वाले विकल्प पर निशान लगा दिया।

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस

ਪੰਜਾਬੀ ਵਿਚ ਖ਼ਬਰਾਂ ਪੜ੍ਹਨ ਲਈ ਇੱਥੇ ਕਲਿੱਕ ਕਰੋ!