जागरण संवाददाता जालंधर

फर्जी दस्तावेजों के आधार पर गाड़ी फाइनांस करवाकर बेचने के मामले का राजफास पुलिस जल्द कर सकती है। बताया जाता है कि सीआइए-1 ने इस मामले में आधा दर्जन लोगों को हिरासत में ले लिया है और बाकी आरोपितों की तलाश में लगातार छापामारी कर रही है।

दरअसल सीआईए स्टाफ-1 ने थाना सात में आठ लोगों कमल गिल, जश्नदीप, मुनीष, रोहित, जगबीर सिंह, सौरव व गुरप्रीत उर्फ गोपी के खिलाफ मामला दर्ज किया था। पुलिस की मानें तो आरोपित पहले तो अलग-अलग बैंकों से फर्जी दस्तावेजों के आधार पर लग्जरी गाड़ियां और बाइक फाइनांस करवाते थे और फिर इन गाड़ियों को ऐसे लोगों को बेचते थे जो कि इन सबसे अंजान हो। बताया जा रहा है कि इन आरोपितों के जाल पंजाब के कई शहरों के साथ-साथ दूसरे प्रदेशों में फैले हो सकते हैं। पुलिस की सख्ती के बाद इस मामले से जुड़े लोग अंडरग्राउंड हो चुके हैं। कई कार डीलर भी निशाने पर!

सूत्रों की मानें तो फाइनांस कराई गई गाड़ियों को बेचने के लिए गिरोह कार बाजारों का सहारा लेता था। कार बाजारों में ही इन गाड़ियों को खड़ी कर बेचा जाता था। ऐसे में माना जा रहा है कि कई कार डीलर भी पुलिस के निशाने पर आ सकते हैं।

Indian T20 League

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप

kumbh-mela-2021