जालंधर, जेएनएन। लुधियाना में करोना वायरस संक्रमण से जान गंवाने वाले एसीपी अनिल कोहली मूल रूप से जालंधर के दकोहा गांव के रहने वाले थे। यहां बड़े भाई रहते हैं। उनकी मौत से गांव दकोहा में शोक की लहर दौड़ गई है। तमाम गांववासी, दोस्त और उनके सगे संबंधी सदमे में हैं। उन्हें उनके अब इस दुनिया में नहीं होने का विश्वास नहीं हो पा रहा है। उन्हें इस बात का दुख है कि वे उनके अंतिम संस्कार में शामिल नहीं हो सके।

जालंधर कैंट में की थी पढ़ाई

भाजपा नेता पुनीत शुक्ला, प्रवीण कुमार और उनके घर के सामने गीतांजलि डिपार्टमेंटल स्टोर के मालिक ने बताया कि एसीपी कोहली यारों के यार और सात्विक विचारों वाले इंसान थे। पुनीत ने बताया कि एसीपी कोहली ने क्लास 1 से लेकर क्लास 6 तक की पढ़ाई विक्टर मॉडल स्कूल जालंधर कैंट से की थी। उसके बाद वह कैंट बोर्ड सीनियर सेकेंडरी स्कूल चले गए।

एक महीने पहले बीमार बड़े भाई को देखने आए थे

एसीपी कोहली के पिता रेलवे में कार्यरत थे, उनका पिछले दिनों निधन हो गया था। वर्तमान में उनके घर में बड़े भाई सुनील कोहली रहते हैं जो खुद रेलवे में कार्यरत है गांववासियों के अनुसार एसीपी अनिल कोहली अंतिम बार करीब 1 माह पूर्व अपने बड़े भाई सुनील कोहली, जिन्हें पीलिया हो गया था, का हाल-चाल पूछने आए थे।

13 अप्रैल को हुई थी संक्रमण की पुष्टि

एसीपी अनिल कुमार कोहली को लुधियाना सब्‍जी मंडी में ड्यूटी के दौरान कोरोना वायरस संक्रमण हुआ था। इसकी पुष्टि 13 अप्रैल को हुई थी। उन्हें लुधियाना के सतगुरु प्रताप सिंह अस्‍पताल (एसपीएस अस्‍पताल) भर्ती कराया था, जहां चार दिन वह वायरस से लड़ते रहे। पांचवे दिन उनकी हालत बिगड़ गई और उन्होंने दम तोड़ दिया।

हरियाणा की ताजा खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें

पंजाब की ताजा खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें 

Posted By: Pankaj Dwivedi

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस

ਪੰਜਾਬੀ ਵਿਚ ਖ਼ਬਰਾਂ ਪੜ੍ਹਨ ਲਈ ਇੱਥੇ ਕਲਿੱਕ ਕਰੋ!