जागरण संवाददाता, जालंधर

नगर निगम के कामों पर रिव्यू मीटिग में तंग इलाकों में व्यावसायिक इमारतें बनाने के लिए जोनिग पालिसी का एजेंडा फाइनल स्टेज पर पहुंच गया है। जालंधर वेस्ट और जालंधर कैंट के कुछ इलाकों को इस एजेंडे में जोड़ने के बाद पालिसी इसी हफ्ते फाइनल कर दी जाएगी। पालिसी के मुताबिक तय किए गए इलाकों को कोर एरिया घोषित करने की मंजूरी के लिए लोकल बाडी डिपार्टमेंट को भेजा जाएगा।

जोनिग पालिसी फाइनल होने से तंग बाजारों, बस्तियों, पुराने इलाकों और उन सभी सड़कों को कामर्शियल घोषित कर दिया जाएगा, जहां पर बड़ी गिनती में दुकानें और शोरूम बन चुके हैं। सांसद चौधरी संतोख सिंह, विधायक परगट सिंह, राजिदर बेरी, सुशील रिकू व बावा हैनरी के साथ मीटिग में निगम कमिश्नर करनेश शर्मा ने बताया कि जोनिग पालिसी फाइनल स्टेज पर है। विधायक सुशील रिकू ने बस्ती गुजां, बस्ती नौ के कुछ इलाकों को इसमें शामिल करने के लिए कहा है। वहीं विधायक परगट सिंह ने वडाला चौक, चीमा चौक, अर्बन एस्टेट, कुक्की ढाब समेत कुछ अन्य एरिया को जोड़ने के लिए कहा है। इस समय शहर के बाजारों में कामर्शियल निर्माण संभव नहीं है, क्योंकि यहां पर सड़कें कम चौड़ी हैं। जोनिग पालिसी के तहत इन इलाकों में पार्किग की शर्त भी हट जाएगी और सड़क की चौड़ाई का भी नियम लागू नहीं रहेगा। हर विधानसभा हलके के लिए अलग मशीनरी का प्रस्ताव

रिव्यू मीटिग में यह प्रस्ताव भी रखा गया है कि सभी विधानसभा हलकों में काम के लिए अलग-अलग मशीनरी उपलब्ध करवाई जाए। इसके अलावा अलग डिच मशीन, कूड़ा उठाने की मशीनरी, पैचवर्क, सीवरेज और वाटर सप्लाई से जुड़ी मशीनरी उपलब्ध करवाई जाए। विधायक राजिदर बेरी ने कहा कि फिलहाल ऐसी स्थिति है कि एक ही मशीन शहर के कई इलाकों में घूमती है और काम संभव नहीं हो पाता। बेचने से पहले निगम की प्रापर्टी का सर्वे होगा

मीटिग में यह प्रस्ताव रखा गया है कि नगर निगम की जिन प्रापर्टी को बेचा जाना है, उनका पूरा सर्वे करवाया जाए। जो प्रापर्टी लीज या किराये पर दी गई है, उनकी पूरी जानकारी जुटा ली जाए और नियमों के मुताबिक तय कर लिया जाए कि किस-किस व्यक्ति के पास इसके पूरे दस्तावेज हैं। विधायक राजिदर बेरी ने कहा कि इससे किसी भी तरह की गड़बड़ी की गुंजाइश नहीं रहेगी।

----------------- परगट सिंह भड़के, कहा-अफसर फाइलों से बाहर आकर फील्ड में निकलें जागरण संवाददाता, जालंधर

विकास कार्यो और रूटीन वर्क में देरी पर विधायक परगट सिंह ने एक बार फिर अफसरों पर जमकर नाराजगी जताई है। सांसद चौधरी संतोख सिंह, मेयर और विधायकों की मीटिग में परगट सिंह ने कमिश्नर करनेश शर्मा से कहा कि अधिकारियों को फाइलों से बाहर निकल कर फील्ड वर्क करना होगा।

उन्होंने कहा कि इस समय काम करने की जरूरत है, लेकिन ऐसा हो नहीं पा रहा है। जहां कहीं फंड की कमी है, वहां तो बात में समझ में आती है कि काम में देरी हो रही है, लेकिन 70 प्रतिशत काम ऐसे हैं जो अफसरों के फील्ड में निकलने से ही हो जाएंगे। परगट सिंह ने कहा कि बिल्डिंग डिपार्टमेंट को जो गलत काम रुकवाने के लिए निर्देश दिया जाता है तो अफसर काम रोकने के बजाय बिल्डिंग मालिक को सूचित करते हैं कि काम रुकवाया जा रहा है। उन्होंने कहा कि हेल्थ अफसर, ओएंडएम, बीएंडआर के एसई विधायकों का फोन तक नहीं उठाते। ऐसे में पार्षदों के काम कैसे होते होंगे यह अंदाजा लगाया जा सकता है। माडल टाउन डंप पर सहमति न बनाने पर पार्षदों को सुनाई खरी-खरी

माडल टाउन डंप के मसले को लेकर विधायक परगट सिंह ने पार्षदों को भी खरी-खरी सुनाई है। विधायक ने कहा कि पार्षद इस बात पर सहमति ही नहीं बना पा रहे हैं कि डंप को कहां शिफ्ट करना है। वार्ड नंबर 27, 28 और 31 का कूड़ा माडल टाउन डंप पर आ रहा है। डंप की स्थिति पर बात करने के लिए पार्षद बलराज ठाकुर, अरुणा अरोड़ा व हरशरण कौर हैप्पी मेयर हाउस पहुंचे और विधायक से कहा कि फोलड़ीवाल में कूड़े को फेंकने की मंजूरी दी जाए। माडल टाउन में डंप से उन्हें वोट का नुकसान हो रहा है। इस पर परगट सिंह भड़क गए और कहा कि उनका घर भी यहीं है, वह लाहौर में नहीं रहते। इससे उनका भी नुकसान है, लेकिन इसका हल तो निकालना ही होगा। डंप के लिए नई साइट तो तय करनी ही होगी।

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस

ਪੰਜਾਬੀ ਵਿਚ ਖ਼ਬਰਾਂ ਪੜ੍ਹਨ ਲਈ ਇੱਥੇ ਕਲਿੱਕ ਕਰੋ!