जागरण संवाददाता, जालंधर

आम आदमी पार्टी सरकार के पहले बजट पर विपक्षी दलों ने निराशा जताई है। कांग्रेस, भाजपा, अकाली दल के नेताओं ने कहा है कि लोगों ने बड़ी उम्मीद के साथ आप की सरकार बनाई थी, लेकिन अब लोग निराश हो रहे हैं।

भाजपा प्रवक्ता दीवान अमित अरोड़ा ने कहा कि मुख्यमंत्री भगवंत मान ने अपने पहले बजट में ही समाज के सभी वर्गो के साथ धोखा किया है। उन्होंने कहा कि चुनाव से पहले गारंटी-गारंटी करने वाले आप नेताओं ने सरकार बनने पर किसी भी गारंटी को पूरा नहीं किया। केजरीवाल ने किसानों के पूर्ण कर्ज माफी का वादा किया था, महिलाओं के खाते में 1000 रुपये प्रति महीना जमा कराने थे, लेकिन ऐसा नहीं हुआ। भाजपा नेता एवं पूर्व मेयर सुनील ज्योति ने कहा कि शहरों के विकास के लिए सरकार का बजट खाली रहा है। आने वाले दिनों में बरसात से शहर की सड़कों, सीवर सिस्टम और मूलभूत ढांचे की हालत बिगड़ने का खतरा बना रहेगा और सरकार के पास बजट न होने से इसमें सुधार की कोई गुंजाइश नजर नहीं आ रही।

शिरोमणि अकाली दल बीसी विग के जिला प्रधान अमरजीत सिंह किशनपुरा ने कहा कि बजट में कुछ भी नया नहीं है। बिजली, पानी व कृषि को लेकर वही सब कुछ है जो पहले से ही चल रहा था। पंजाब में 16 मेडिकल कालेज खोलने की घोषणा की गई है, लेकिन यह स्पष्ट नहीं किया कि यह सरकारी होंगे या निजी। कांग्रेस नेता व पूर्व विधायक सुशील रिकू ने कहा कि सरकार से लोगों को उम्मीद थी कि बिजली के मुद्दे पर कोई न कोई बड़ी राहत मिलेगी, लेकिन कांग्रेस सरकार के समय हर कैटेगरी के लिए हर स्लैब में तीन रुपये प्रति यूनिट रेट घटाने की जो घोषणा हुई थी वह भी अब नजर नहीं आ रही है। कांग्रेस के पूर्व विधायक राजिदर बेरी ने कहा कि बजट में बुढ़ापा, विधवा और दिव्यांगों के लिए पेंशन में बढ़ोतरी की उम्मीद रखी गई थी, लेकिन वह पूरी नहीं हुई।

Edited By: Jagran